रियायती सिलेंडरों की संख्या 12 हुई, सब्सिडी पहले की तरह मिलेगी

You Are HereNational
Thursday, January 30, 2014-6:17 PM

नई दिल्ली: सरकार ने रियायती रसोई गैस सिलेंडरों की संख्या को नौ से बढाकर 12 करने के साथ ही इस पर मिलने वाली सब्सिडी आधार संख्या आधारित बैंक खातों के माध्यम से दिए जाने की व्यवस्था को भी समाप्त करने का निर्णय लिया है।
      
तेल एवं पेट्रोलियम मंत्री एम वीरप्पा मोइली ने मंत्रिमंडल की बैठक के बाद संवाददाताओं को यह जानकारी देते हुए बताया कि अब ग्राहको को प्रति वर्ष 12 रियायती रसोई गैस सिलेंडर मिलेंगे। उन्होंने कहा कि चालू वित्त वर्ष में फरवरी और मार्च में एक-एक रियायती सिलेंडर मिलेगा और उसके बाद अप्रैल से ग्राहको को प्रति महीने एक रियायती सिलेंडर मिलेगा।

उल्लेखनीय है कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से रियायती रसोई गैस सिलेंडरो की संख्या बढाकर 12 करने का आग्रह करते हुये कहा था कि नौ सिलेंडर नाकाफी है। इस पर तेल एवं पेट्रोलियम मंत्री ने गंभीरता से विचार करने की बात कही थी।
 
उन्होंने कहा कि इससे सरकार पर पांच हजार करोड़ रूपए का अतिरिक्त भार पडेगा और सरकार को तेल विपणन कंपनियों को लागत से कम पर ईंधन की आपूर्ति करने के लिए 85 हजार करोड रूपए का भुगतान करना पड़ेगा। उन्होंने बताया कि देश में अभी 14 करोड़ रसोई उपभोक्ता हैं और इस निर्णय से 99.2 प्रतिशत ग्राहको को बाजार मूल्य पर सिलेंडर खरीदने की जरूरत नहीं पड़ेगी। उन्होंने बताया कि इसके साथ ही सरकार ने रसोई गैस सिलेंडर पर दी जाने वाली सब्सिडी का आधार संख्या आधारित बैंक खातों के माध्यम से भुगतान किए जाने को भी फिलहाल टाल दिया है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You