अन्ना से AAP तक छाई रही गांधी टोपी

  • अन्ना से AAP तक छाई रही गांधी टोपी
You Are HereNational
Thursday, January 30, 2014-4:24 PM

नई दिल्ली: आजादी की लड़ाई में जब राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने टोपी पहननी शुरू की थी तब किसी ने सोचा भी नहीं था कि यह टोपी उनकी और आजादी की लडाई की पहचान से इस कदर जुड जायेगी कि सदियों तक संघर्ष करने वाले उसे प्रतीक के तौर पर अपनाते रहेंगे। उनके संघर्ष के दिनों में उनकी वेशभूषा का अभिन्न हिस्सा रही टोपी उनके नाम पर ही गांधी टोपी के नाम से लोकप्रिय हुई और राजनीतिक नेताओं और कार्यकर्ताओं ने इसे पहनना शुरू कर दिया। 

लेकिन वक्त गुजरने के साथ ही टोपी पहनने का यह रिवाज कम होता चला गया और गांधी टोपी धीरे धीरे विलुप्त होने लगी। वैसे गांधीवादी कार्यकर्ता अन्ना हजारे द्वारा वर्ष 2011 में दिल्ली में जन लोकपाल के लिये किये गये अनशन और उसके बाद उनके साथी रहे अरविन्द केजरीवाल के संघर्ष के दौरान गांधी टोपी पहनने से इस टोपी ने एक बार फिर हर खासो आम में अपनी जगह बना ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल की आम आदमी पार्टी ने इस गांधी टोपी को उस वक्त पहनना शुरू किया जब देश के नेताओं एवं लोगों ने न केवल इसे पहनना लगभग बंद कर दिया था, बल्कि आम लोगों की स्मृति में भी यह धुंधली पड़ चुकी थी। 

दिल्ली विधानसभा में बुराडी निर्वाचन क्षेत्र से आम आदमी पार्टी के विधायक संजीव झा ने कहा, ‘‘मैं खुद भी महात्मा गांधी का अनुयायी हूं। जब हम इस गांधी टोपी को पहनते हैं, तो हम नैतिक अनुशासन और जिम्मेदारी का अहसास और अधिक करते हैं। कोई भी व्यक्ति इस टोपी को पहनकर जानबूझकर कोई गलती नहीं करता है।’’उन्होंने कहा, ‘‘यह टोपी अब त्याग एवं बलिदान का प्रतीक बन गयी है।’’

महात्मा गांधी ने देश को अंग्रेजों के शासन से मुक्ति दिलाने के लिये शुरू किये गये अपने आंदोलन के दौरान इस टोपी को पहनना शुरू किया था। सफेद खादी की बनी ऐसी टोपी अपने नेता को पहने देखकर अन्य राजनीतिक नेताओं और कार्यकर्ताओं ने भी टोपी पहननी शुरू कर दी और देखते देखते ही यह स्वराजियों की पहचान बन गयी। यह टोपी गांधीजी के अनुयायियों और भारतीय राष्ट्रीय कांगे्रस के सदस्यों में आम हो गई।

गांधीजी के निधन के बाद गांधी टोपी को भावनात्मक महत्व मिला और इसे भारतीय नेताओं जैसे प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू, लाल बहादुर शास्त्री और मोरारजी देसाई ने नियमित रूप से पहना। इनके अलावा अधिकतर सांसदों ने भी इस टोपी को पहना। लाखों लोगों ने इस टोपी को 15 अगस्त 1947 को स्वतंत्रता दिवस मनाते समय और 26 जनवरी 1950 को देश के पहले गणतंत्र दिवस पर पहना।

सालों तक यह टोपी राजनीतिक जगत में अपना महत्व बनाये रही लेकिन फिर धीरे धीरे लोग इसे भूलने लगे। संघर्ष की याद से जुड़ी यह टोपी संघर्ष के दिन गुजरने के बाद जैसे महत्व खोने लगी। लेकिन पद्मभूषण से सम्मानित समाजसेवी अन्ना हजारे के अगस्त 2011 में जन लोकपाल विधेयक को संसद में पारित करवाने और भ्रष्टाचार के विरद्ध दिल्ली के रामलीला मैदान में अपने आमरण अनशन के दौरान इस टोपी को नया जीवन मिला। हजारे तो गांधी टोपी हमेशा ही पहनते हैं लेकिन उनके समर्थकों ने ‘मैं अण्णा हूं’ लिखी ऐसी ही टोपी पहनी और आंदोलन में शरीक हुए। इसके बाद हजारे के सहयोगी रहे अरविंद केजरीवाल ने 26 नवंबर 2012 में आम आदमी पार्टी के नाम से नई राजनीतिक पार्टी बनायी और अपने हर आंदोलन में सफेद गांधी टोपी पहनी जिसपर लिखा होता है ‘मैं आम आदमी हूं’।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You