'श्रेय लेने के चक्कर में नीतीश ने रख दिया अपना स्वाभिमान गिरवी'

  • 'श्रेय लेने के चक्कर में नीतीश ने रख दिया अपना स्वाभिमान गिरवी'
You Are HereNational
Friday, January 31, 2014-9:35 AM

पटना: भाजपा ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के कांग्रेस विरोध को ढोंग और दिखावा बातते हुए आज आरोप लगाया कि केन्द्र सरकार और कांग्रेस की उपेक्षा के बावजूद नीतीश श्रेय लेने के चक्कर में किशनगंज में अलीगढ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) की शाखा के शिलान्यास कार्यक्रम में भाग लेने स्वाभिमान को गिरवी रखकर वहां गए।

भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कांग्रेस विरोध को ढोंग और दिखावा बातते हुए आज आरोप लगाया कि केन्द्र सरकार और कांग्रेस की उपेक्षा के बावजूद नीतीश श्रेय लेने के चक्कर में किशनगंज में एएमयू की शाखा के शिलान्यास कार्यक्रम में भाग लेने स्वाभिमान को गिरवी रखकर वहां गए।

सुशील ने कहा कि अगर मुख्यमंत्री में जरा भी स्वाभिमान होता तो कभी भी सोनिया गांधी के साथ फोटो खिंचवाने की औपचारिकता के लिए कार्यक्रम में शिरकत नहीं करते। उन्होंने कहा कि इस कार्यक्रम का आमंत्रण प्राप्त करने के लिए राज्य सरकार के शिक्षा मंत्री को केन्द्र सरकार को पत्र लिखना पडा। बिहार के लोगों का यह अपमान है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर कांग्रेस के प्रति मोह बरकरार होने का दावा करते हुए सुशील ने कहा कि कांग्रेस से गठबंधन होने की उन्हें अभी भी थोडी उम्मीद है।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस और केन्द्र सरकार ने जिस तरह से राज्य सरकार की उपेक्षा की उसके बाद मुख्यमंत्री को कांग्रेस के इस आयोजन में शामिल नहीं होना चाहिए था। मगर कांग्रेस के चार विधायकों के सहयोग से अपनी अल्पमत की सरकार चला रहे नीतीश में अब इतना आत्मबल भी शेष नहीं बचा है कि वह बिहार के सम्मान और स्वाभिमान की रक्षा कर सके। नीतीश पर किशनगंज की एएमयू शाखा का भाजपा द्वारा विरोध को लेकर गलतबयानी करने का आरोप लगाते हुए भाजपा नेता सुशील कुमार मोदी ने कहा कि उनकी पार्टी ने कभी इसका विरोध नहीं किया। कैबिनेट के अंदर जब यह प्रस्ताव आया तो भाजपा ने इसे अपनी पूरी सहमति दी।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री को बताना चाहिए कि भाजपा ने कब इसका विरोध किया। भाजपा के विरोध की स्थिति में क्या बिहार में शाखा खुल पाती। सुशील ने मांग की कि प्रदेश के पिछडे इलाके किशनगंज में खुल रहे अलीगढ मुस्लिम विश्वविद्यालय की उक्त शाखा में किशनगंज और आसपास के जिलों के साथ ही बिहार के अन्य जिलों के हिन्दू-मुस्लिम और सभी वर्गो के छात्र-छात्राओं के नामांकन के लिए स्थान आरक्षित किया जाए नहीं तो इसका लाभ बिहार के छात्रों को नहीं मिल पाएगा। उन्होंने कहा कि बिहार सरकार ने एएमयू की उक्त शाखा को खोलने के जमीन दी है। यहां के संसाधनों का उपयोग होगा इसका लाभ बिहार के सभी तबकों के छात्र छात्राओं को मिलना चाहिए।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You