अब सरकारी स्कूलों के अध्यापक विरोध में

  • अब सरकारी स्कूलों के अध्यापक विरोध में
You Are HereNational
Friday, January 31, 2014-8:58 PM

 नई दिल्ली : दिल्ली सरकार के खिलाफ अस्थाई अध्यापकों का धरना समाप्त हुए कुछ दिन हुए भी नहीं कि अब सरकारी स्कूलों के टीचर सरकार और निदेशालय के विरोध में आ गए हैं। काम के घंटे बढ़ाए जाने के आदेश को वापस न लेकर पुरा शिक्षक समुदाय विरोध में खड़ा हो गया है। 

 
सरकारी स्कूलों में, गवर्नमेंट स्कूल टीचर्स एसोसिएशन (जीएसटीए) के संरक्षण में शिक्षकों ने इस आदेश को वापस लेने की मांग को लेकर बृहस्पतिवार को काली पट्टी बांधकर काम किया। एक दिन के इस प्रतीकात्मक विरोध के जरिए शिक्षकों ने अपनी मांग को निदेशालय और सरकार तक पहुंचाने की कोशिश की।
 
गवर्नमेंट स्कूल टीचर्स एसोसिएशन (जीएसटीए) का कहना है कि अभी सिर्फ प्रतीकात्मक विरोध ही दर्ज कराया गया है। यदि बात किसी सकारात्मक दिशा में आगे नहीं बढ़ी तो आगे की रणनीति पर चर्चा होगी।
 
गौरतलब है कि इस आदेश को वापस लिए जाने की मांग को लेकर जीएसटीए के बैनर तले शिक्षकों के एक प्रतिनिधिमंडल ने सोमवार को शिक्षा मंत्री  से मुलाकात की थी। जिसके बाद देर शाम निदेशालय ने इसे नए शैक्षणिक सत्र की शुरुआत तक के लिए टालने का आदेश दिया था। निदेशालय के इस फैसले से असंतुष्ट जीएसटीए ने अपने आंदोलन के पहले चरण को 30 जनवरी से शुरू करने की बात कही थी।
 
 

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You