रियायती सिलेंडरों की संख्या बढ़ाना अर्थव्यवस्था के लिए नकारात्मक

  • रियायती सिलेंडरों की संख्या बढ़ाना अर्थव्यवस्था के लिए नकारात्मक
You Are HereNational
Saturday, February 01, 2014-8:44 AM

नई दिल्ली: उद्योंग संगठन फ्क्किी ने सरकार द्वारा रियायती सिलेंडरों की संख्या 9 से बढाकर 12 किए जाने तथा इनकी सब्सिडी की आधार कार्ड के जरिए भुगतान की प्रक्रिया पर फिलहाल रोक लगाने के फैसले को अर्थव्यवस्था के लिए नकारात्मक कदम बताया है।

फ्क्किी ने कहा है कि यह अपना कदम वापिस खींचनें जैसा है। ऐसे समय में जबकि अर्थव्यवस्था गहरे दबाव में है सरकार को चाहिए कि वह जलकल्याणकारी योजनाओं को लागू करते समय संतुलित नीति अपनाए।

अनुमान है कि रियायती सिलेंडरों की संख्या बढाने से सरकार पर 5 हजार करोड़ रूपए का अतिरिक्त बोझ आएगा। तेल और तेल उत्पादों की अंडररिकवरी भी मौजूदा वित्त वर्ष बढकर 1.40 लाख करोड़ रूपए से ज्यादा होने की संभावना है।

उद्योग संगठन के मुताबिक आधार खातों के जरिए सब्सिडी भुगतान की शुरूआत एक सही दिशा में उठाया गया कदम था इससे समूची व्यवस्था पारदर्शी बनी रहती ऐसे में इससे कदम वापिस खीचंना सही फैसला नहीं है।



 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You