मैं या मेरी मर्जी का पी.एम.

  • मैं या मेरी मर्जी का पी.एम.
You Are HereNcr
Saturday, February 01, 2014-4:48 PM

नई दिल्ली : भाजपा के भीष्म पितामह तथा पूर्व उप प्रधानमंत्री लाल कृष्ण अडवानी ने गत रविवार को लोकसभा चुनाव लडऩे की अपनी मंशा जताकर अपने उन विरोधियों को पुन: सोचने पर विवश कर दिया जो कि उन्हें अब तक चुका हुआ मान रहे थे। वर्तमान में गुजरात की गांधीनगर सीट से भाजपा सांसद अडवानी की बढ़ती आयु को देखते हुए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ उन्हें ऊपरी सदन राज्यसभा में भेजना चाह रहा था ताकि पार्टी में युवा नेतृत्व को पहली पंक्ति में लाया जा सके लेकिन अडवानी ने अपने दिल की बात कहकर सभी अटकलों पर विराम लगा दिया।

पार्टी के वरिष्ठ सूत्रों के अनुसार अडवानी यद्यपि पी.एम. बनने की अपनी महत्वाकांक्षा को छोड़ नहीं पाए हैं लेकिन वह यह भली-भांति जानते हैं कि अब उनके प्रधानमंत्री बनने की संभावना काफी कम है। हालांकि पार्टी में उनका स्तर नीचे तो जरूर चला गया है मगर अभी वह आऊट नहीं हुए हैं शायद इसलिए वह अपना आखिरी दाव खेलना चाहते हैं।

लोकसभा चुनाव में भाजपा 272 का लक्ष्य लेकर आगे बढ़ रही है लेकिन अगर पार्टी को 200 से नीचे सीटें मिलती हैं तो अडवानी अपना पत्ता खेल सकते हैं और यदि भाजपा को 200 से अधिक सीटें मिल जाएं तो फिर नरेन्द्र मोदी का रास्ता साफ हो जाएगा।  यदि भाजपा 200 से कम सीटें प्राप्त करती है तो अडवानी फिर से अपना वो इतिहास दोहराना चाहेंगे, जब 1989 में  उनके दम पर वी.पी. सिंह की सरकार बनी थी।

उस समय वह भाजपा को 2 सीटों से उठाकर 88 सीटों तक ले गए थे। इसके बाद स्वयं पार्टी का लोकप्रिय चेहरा होने के बावजूद उन्होंने अटल बिहारी वाजपेयी को प्रधानमंत्री बनवाया था। हालांकि संघ और पार्टी नेताओं के रवैये से इतर अडवानी को भी पता है कि अब वह बुजुर्ग हो चुके हैं और लोग चाहते हैं कि वह सक्रिय राजनीति से हट जाएं शायद इसलिए जाते-जाते अडवानी चाहते हैं कि यदि वह प्रधानमंत्री न बन सके तो कम से कम उनकी पसंद का व्यक्ति प्रधानमंत्री बन जाए ताकि पार्टी में उनकी उपयोगिता बनी रहे। 

2014 में अगर वह सहयोगी दलों को जोडऩे में कामयाब रहे तो फिर पर्दे के पीछे रहकर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने जिस तरह पार्टी की बागडोर अपने हाथ में रखकर मनमोहन सिंह को प्रधानमंत्री बनाया था उसी तरह से अडवानी सुषमा स्वराज या किसी और पसंदीदा व्यक्ति को पी.एम. पद के लिए आगे बढ़ा सकते हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You