राष्ट्रपति का फर्जी ट्विटर अकाउंट बनाया

  • राष्ट्रपति का फर्जी ट्विटर अकाउंट बनाया
You Are HereNcr
Saturday, February 01, 2014-1:25 PM

नई दिल्ली (कुमार गजेन्द्र): राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के नाम से ट्विटर पर फर्जी अकाउंट बनाने का मामला सामने आया है। पुलिस ने इस मामले में राष्ट्रपति कार्यालय से शिकायत मिलने के बाद एफ.आई.आर. दर्ज कर ली है। राष्ट्रपति का यह अकाउंट काफी दिन पहले खोला गया था, इसलिए इस पर देश विदेशों से लगातार ट्वीट किए जा रहे थे।

पुलिस दिल्ली पुलिस के एक आला अधिकारी के मुताबिक राष्ट्रपति के ओ.एस.डी. सुरेश यादव की ओर से वीरवार को इस आशय की शिकायत पुलिस को भेजी गई थी। इसके बाद पुलिस के साइबर सैल में तुरन्त केस दर्ज कर लिया गया इसकी उच्चस्तरीय जांच शुरू हो चुकी है। इस मामले में दिल्ली पुलिस की ओर से ट्विटर रन करने वाली कंपनी से सम्पर्क साधा जा रहा है।

सूत्रों के मुताबिक किसी शख्स ने कुछ दिन पहले राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के नाम से ट्विटर अकाउंट खोल दिया। कुछ ही घंटे में इस अकाउंट के हजारों फोलोअर बन गए। जैसे ही राष्ट्रपति के नाम पर बने इस फर्जी अकाउंट  से ट्वीट किया गया कि प्रणव मुखर्जी ट्विटर पर आ गए हैं, कुछ ही देर में देश-विदेश की तमाम प्रभावशाली हस्तियों सहित हजारों लोगों ने इसका स्वागत किया। शशि थरूर समेत कुछ केंद्रीय मंत्रियों ने भी इसे फॉलो किया।

ट्विटर के आधिकारिक अकाउंट ट्विप्लोमैसी ने भी इस अकाउंट का स्वागत किया। डिप्लोमैसी विश्व के तमाम राजनेताओं के ट्विटर अकाउंट का लेखा-जोखा रखता है। इसने प्रणव मुखर्जी को फॉलो करने की अनुशंसा भी की। अकाउंट खुलने के लगभग 5 घंटे बाद जब पीएमओ ने राष्ट्रपति भवन से इस बारे में जानकारी ली।

राष्ट्रपति के ट्विटर पर होने की खबर जब राष्ट्रपति भवन पहुंची तो सभी सकते में आ गए। पुलिस अफसर के मुताबिक छानबीन के बाद राष्ट्रपति भवन की ओर से आधिकारिक तौर पर जानकारी दी गई कि प्रणव मुखर्जी ट्विटर पर नहीं आए हैं, इसके बाद तुरन्त ट्विटर कंपनी की ओर से अकाउंट को बैन करते हुए इत्तला दी गई कि यह फर्जी अकाउंट है जो कि बंद कर दिया गया है।

पुलिस अफसर के मुताबिक राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के ओएसडी सुरेश यादव ने ऐसे किसी तरह के अकाउंट को खारिज करते हुए दिल्ली पुलिस को इस मामले में तुरन्त एक्शन लेने की शिकायत भेजी है, जिसमें कहा गया है कि ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जाए ताकि राष्ट्रपति के नाम से फर्जी फेसबुक, ट्विटर और यू-ट्यूब का गलत इस्तेमाल ना हो सके। पुलिस ने आईटी एक्ट 66 सी के तहत केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। पुलिस का कहना है कि आरोपियों को जल्दी ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You