देश में परिवर्तन की प्रबल इच्छा दिखाई दे रही है: आडवाणी

  • देश में परिवर्तन की प्रबल इच्छा दिखाई दे रही है: आडवाणी
You Are HereNational
Sunday, February 02, 2014-2:37 AM

भरतपुर: पूर्व उप प्रधानमंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने आज कहा कि देश की जनता परिवर्तन की प्रबल इच्छा रखती है तथा अगले लोकसभा चुनाव में इसका प्रमाण मिलेगा। कला मंदिर महिला कालेज के दो दिवसीय वार्षिक उत्सव में शामिल होने आये श्री आडवाणी से यहां पत्रकारों ने राजनीतिक स्थिति पर सवाल पूछे तो उन्होंने यह बात कही।

इससे पहले उन्होंने वार्षिक उत्सव में छात्राओं को सम्बोंधित करते हुये कहा आगामी लोकसभा चुनाव महत्वपूर्ण होंगे जिनके बारे में जानने की इच्छा सभी को है लेकिन आज मैं इस पर कुछ नहीं बोंलूंगा। श्री आडवाणी ने कहा कि भारत की आन्तरिक स्थितियां आज भी अच्छी नहीं है। भुखमरी एवं भ्रष्टाचार का बोलबाला हैं। इसे रोकने के लिये चरित्रवान एवं देश भक्त युवाओं की जरूरत हैं। शिक्षण संस्थाओं की जिम्मेदारी है कि वे देश से प्यार करने वाले ईमानदार सपूत पैदा करें।
 
उन्होंने कहा कि नई पीढ़ी स्वतंत्रता के माहौल में पैदा हुई है उसे आजादी की इतनी कीमत पता नहीं है जितनी गुलामी में पैदा हुये लोगों को है। उन्होंने गुलामी के दिनों को याद करते हुये कहा कि तब भारतीयों के साथ रेल आदि स्थानों पर भेदभाव बरता जाता था तथा अपमान के घूंट पीने पड़ते थे। शिकागों में 1893 मेंस्वामी विवेकानंद के भाषण का जिक्र करते हुये श्री आडवाणी ने कहा कि स्वामी जी ने कहा था कि भारत में अनेकों देवी देवताओं की पूजा होती है। लेकिन भारत माता की पूजा काफी है। इसके पीछे उनकी भावना देश भक्ति की थी। उसे आज भी याद करना है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You