नक्सलियों के विरोध में ग्रामीणो ने खोला मोर्चा

  • नक्सलियों के विरोध में ग्रामीणो ने खोला मोर्चा
You Are HereNational
Sunday, February 02, 2014-10:59 AM

पत्थलगांव: छत्तीसगढ़ केजशपुर जिले में झारखंड राज्य से नक्सलियों की आवाजाही पर रोक लगाने के लिए राज्य की सीमा वाले तीन गांव के लोगों ने एकजुट होकर विरोध का स्वर तेज कर दिया है। यहां आरा थाना क्षेत्र अन्तर्गत ठुठीअंबा तथा अन्य गांव के लोगों ने अपने पारम्परिक हथियार उठाकर जंगलों में गश्त तेज कर दी है। ग्राम पंचायत आरा की महिला सरपंच बुधनीबाई का आरोप है कि इस अचंल में नक्सली वारदात के बाद पुलिस समय पर पहुंच कर कार्रवाई नहीं कर पाती है। इसका खामियाजा ग्रामीणों को भुगतना पड़ रहा है। उन्होंने बताया कि इसी बात के मद्देनजर तीन गांव के लोगों ने अपनी सुरक्षा के लिए स्वय बीडा उठाया है।

 

ग्राम आरा सकरडेगा और ठुठीअंबा के ग्रामीण पिछले एक पखवाड़े से जगंलों में गश्त कर नक्सली गतिविधियों का पुरजोर विरोध कर रहे हैं। पुलिस अधीक्षक जितेन्द्र सिंह मीणा ने शनिवार को बताया कि झारखंड राज्य में सक्त्रिय नक्सली संगठन के सदस्यों ने ग्राम पंचायत आरा क्षेत्र के ग्रामीणों पर मुखबीरी का सन्देह करके उनके साथ मारपीट की थी। इस घटना के कुपित होकर आरा थाना क्षेत्र के तीन गांव के लोगों ने नक्सलियों के खिलाफ मोर्चा खोल रखा है।

 

उन्होंने बताया कि गांव के लोग अपने पारम्परिक हथियारों के साथ जंगल में गश्त भी कर रहे हैं। उन्होने कहा कि राज्य की सीमा से लगे हुए आरा थाना क्षेत्र के लोगों द्वारा नक्सलियों के विरोध में मोर्चा खोल लेने के बाद पुलिस का सूचनातंत्र भी मजबूत हुआ है। मीणा ने बताया कि छत्तीसगढ़ राज्य की सीमा में नक्सलियों के प्रवेश की जल्द सूचना के बाद पुलिस को अपनी कार्रवाई करने में आसानी हुई है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You