मप्र में मनरेगा की मजदूरी सहकारी बैंक खातों में जमा होगी

  • मप्र में मनरेगा की मजदूरी सहकारी बैंक खातों में जमा होगी
You Are HereNational
Monday, February 03, 2014-10:22 AM

भोपाल: मध्य प्रदेश में महात्मा गांधी रोजगार गारंटी योजना के तहत काम करने वाले श्रमिकों की मजदूरी अब सीधे उनके सहकारी बैंक खातों में जमा होने लगेगी। पंचायत एवं ग्रामीण विकास तथा सामाजिक न्याय विभाग द्वारा जारी किए गए बयान में बताया गया है कि राज्य में जिला सहकारी बैंकों को नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड टांसफर (एनईएफटी) भुगतान प्रणाली से जोडऩे की कार्रवाई पूरी हो चुकी है। इससे अब मनरेगा श्रमिकों की मजदूरी का भुगतान उनके सहकारी बैंक खातों में सीधे होने लगेगा।

 

विभाग के मुताबिक अब तक मनरेगा में मजदूरी का भुगतान इंटीग्रेटेड फायनेंशियल मैनेजमेंट सिस्टम (ईएफएमएस) से जिला सहकारी बैंक खातों में इलेक्ट्रनिक माध्यम से किया जाता था। बैंक द्वारा इसके बाद मेन्युअल तरीके से मनरेगा श्रमिकों के बैंक खातों में राशि पहुंचाई जाती थी। इस व्यवस्था से मजदूरी भुगतान में विलम्ब हो रहा था। अब इस नई व्यवस्था से सामाजिक सुरक्षा योजनाओं के हितग्राहियों को मिलने वाली सहायता राशि का भी त्वरित भुगतान सहकारी बैंकों के माध्यम से किया जाएगा।

 

राज्य में सीहोर जिले में सहकारी बैंक में मनरेगा हितग्राहियों के बैंक खातों में सीधे एनईएफटी भुगतान प्रणाली के जरिए मजदूरी भुगतान का सफल प्रयोग हो चुका है। अब सम्पूर्ण प्रदेश में भुगतान की यह नई व्यवस्था लागू होने जा रही है। जिला सहकारी बैंकों को आईएफएस कोड जारी हो चुके हैं। सहकारी बैंकों ने सभी हितग्राहियों को 12 अंकों वाले बैंक खाता नम्बर आवंटित भी कर दिए हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You