उत्तर पश्चिम दिल्ली सीट के टिकट पर कई निगाहें

  • उत्तर पश्चिम दिल्ली सीट के टिकट पर कई निगाहें
You Are HereNational
Tuesday, February 04, 2014-12:24 AM
नई दिल्ली(सतेन्द्र त्रिपाठी): उत्तर पश्चिम दिल्ली संसदीय सीट पर भाजपा में टिकट की लड़ाई में 2 पूर्व केंद्रीय मंत्री उलझे हुए हैं। दिल्ली नगर निगम के एक कद्दावर नेता इस लड़ाई को त्रिकोणीय बनाने में जुटे हैं। विधानसभा चुनाव की फतह को देखते हुए भाजपा यह सीट जीती हुई मान रही है। इस सीट पर कांग्रेस की सांसद कृष्णा तीरथ भी केन्द्रीय मंत्री है। भाजपा हलकों में चर्चा है कि आखिर टिकट की इस लड़ाई में कौन जितेगा। 
 
दिल्ली विधानसभा चुनाव में इस सीट पर भाजपा ने 5 सीटें जीती थी, जबकि आप ने रोहिणी व मंगोलपुरी सीट जीती थी। कांग्रेस ने बादली व सुल्तानपुरी सीट पर जीत दर्ज की थी। मुंडका सीट निर्दलीय रामबीर शौकीन ने जीती थी। वोटों के लिहाज से इसका आंकलन करे तो कुल वोट पड़े 13,34,813, इसमें से भाजपा को मिले 4,96,531 आप को मिले 3,42,023 और कांग्रेस को 3,04,107 मिले। इस हिसाब से भाजपा यह सीट 1,54,508 वोटों से जीती हुई मान रही है।
 
बसपा यहां पर 57,126 वोट लेकर चौथे स्थान पर रही है। कुल 10 विधानसभा सीट में से भाजपा 5 जीतने के साथ-साथ 3 पर दूसरे नंबर रही थी। मंगोलपुरी में तीसरे व सुल्तानपुरी में पार्टी चौथे स्थान पर रही। इस सीट पर पिछली बार कांग्रेस की कृष्णा तीरथ ने भाजपा की मीरा कांवरिया को हराया था।
 
 इस बार यहां से राजग सरकार में मंत्री रही डॉ.अनिता आर्या, भाजपा के एस.सी. मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ.संजय पासवान, निगम के नेता यौगेन्द्र चंदौलिया, नरेश मैहरौलिया व लक्ष्मण सिंह टिकट की दौड़ में है। अनिता आर्या पटेल नगर से विधानसभा का चुनाव हार चुकी है। जाटव होने के कारण वह दावेदारी में है, कांग्रेस की तीरथ भी जाटव है। इस सीट पर तीन लाख से अधिक वोट बिहार के लोगों के है। इसकी वजह से डॉ.संजय की दावेदारी भी तगड़ी है। वह भाजपा के राष्ट्रीय नेताओं की पसंद बन सकते है। उन्होंने कई किताबें भी 
लिखी है।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You