रतनगढ़ हादसा: सुनवाई मानवाधिकार आयोग में 21 फरवरी को

  • रतनगढ़ हादसा: सुनवाई मानवाधिकार आयोग में 21 फरवरी को
You Are HereNational
Tuesday, February 04, 2014-10:39 AM

भोपाल: मध्य प्रदेश के दतिया जिले में रतनगढ़ में मची भगदड़ के मामले में राज्य मानवाधिकार आयोग में अगली सुनवाई 21 फरवरी को होगी। इसके लिए तत्कालीन जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक सहित अन्य को नोटिस जारी किए गए हैं। राज्य के दतिया जिले के रतनगढ़ माता के मंदिर में नवरात्रि के अंतिम दिन विशेष पूजा अर्चना होती है। बीते वर्ष अक्तूबर में भी नवरात्रि के अंतिम दिन बड़ी संख्या में श्रद्घालु रतनगढ़ की माता के मंदिर में दर्शन करने पहुंचे थे।

 

मंदिर से पहले पडऩे वाले सिंध नदी के पुल पर भारी भीड़ थी। पुल संकरा है और इस पर जाने वालों का दवाब काफी ज्यादा था। तभी अफवाह फैल गई कि पुल टूट गया है। पुलिस ने हालात संभालने के बजाय लाठीचार्ज कर दिया। एक तरफ अफवाह से डरे श्रद्घालु जान बचाने की कोशिश कर रहे थे तभी पुलिस ने लाठियां बरसा दी। इसके चलते जहां कई लोग कुचल गए तो कई ने नदी में कूद कर जाने बचने की कोशिश की। इस हादसे में 100 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी।

 

इस मामले में राज्य मानवाधिकार आयोग ने भी जांच कराई। इस जांच की रिपोर्ट में प्रथम दृष्टया तत्कालीन जिलाधिकारी संकेत भोंडवे, पुलिस अधीक्षक चंद्रशेखर सोलंकी, अनुविभागीय अधिकारी पुलिस सहित अन्य को जिम्मेदार ठहराया गया है। राज्य मानवाधिकार आयोग के उप सचिव कुलदीप जैन के अनुसार इसी मामले में अगली सुनवाई 21 फरवरी को डबल बैच करेगी। इसके लिए संबंधित अधिकारियों को नेाटिस जारी कर दिए गए हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You