आठ साल में यमुना किनारे नहीं बना एक भी इंटरसेप्टर, बनने थे 13

  • आठ साल में यमुना किनारे नहीं बना एक भी इंटरसेप्टर, बनने थे 13
You Are HereNational
Tuesday, February 04, 2014-12:59 PM

नई दिल्ली(रोहित राय): यमुना को कलंकित करने में दिल्लीवासी पीछे नहीं है। आस्था के नाम पर हर साल वासंतिक व शारदीय नवरात्र समेत मूर्ति विसर्जन के दौरान यमुना में लोग कई टन पूजा सामग्री प्रवाह कर नदी को लगातार मैले कर रहे हैं। पूजा सामग्री से मैली होने वाली यमुना को बचाने के लिए दिल्ली सरकार ने वर्ष 2006 में यमुना किनारे 13 इंटरसेप्टर बनाए जाने की योजना बनाई थी। 

योजना को आठ साल हो गए लेकिन अभी तक  यमुना किनारे एक भी इंटरसेप्टर नहीं बन पाया है। 2006 में यमुना की बदतर स्थिति पर हाई कोर्ट में एक याचिका दायर की गई थी। याचिका पर दिल्ली सरकार की ओर से शपथ पत्र दायर कर कहा गया था कि यमुना किनारे 13 इंटरसेप्टर बनाए जाएंगे। 
 
इंटरसेप्टरों के बनने से पूजा सामग्री में मौजूद दूषित व खराब चीजों को आसानी से अलग किया जा सकता है और बाकी शेष सामग्री को नदी में बहाने से कोई नुकसान नहीं होता। सरकार का इंटरसेप्टर बनाने का सपना आठ साल में भी सच नहीं हो पाया है और यमुना को स्वच्छ बनाने पर अभी तक करीब दो हजार करोड़ रुपए खर्च किए जा चुके हैं। प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के आंकड़ों के मुताबिक यमुना में पहुंचने वाली 70 फीसदी गंदगी नदी को दिल्ली वाले ही देते हैं। भविष्य में अगर इस तरह की स्थिति में सुधार नहीं आया तो आने वाले लगभग दस साल में यह नदी मृत हो जाएगी और उस समय इसे पुर्नजीवित करना नामुमकिन हो जाएगा। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड में कार्यरत वरिष्ठ वैज्ञानिक आर एस भारद्वाज ने बताया कि दिल्ली में वजीराबाद से ओखला बैराज तक नदी की लंबाई 22 किलोमीटर है। 
 
इसी हिस्से में नदी में सबसे ज्यादा गंदगी पहुंचती है। यमुना में कुल गंदगी का 70 प्रतिशत इसी हिस्से से मिलता है। शहर के गंदे पानी को निकालने वाले सभी बड़े नालों का पानी यमुना में गिरने का जो सिलसिला शुरू होता है, उससे नदी नहाने लायक भी नहीं रह जाती। बता दें कि यमुना में कुल 22 नालों से पानी गिरता है और दिल्ली व आस-पास के इलाकों से 60 फीसदी कचरा यमुना में पहुंचता है। इससे यह नदी धीरे-धीरे मरती जा रही है और वक्त रहते अगर सरकार की ओर कोई सख्त कदम नहीं उठाया जाता है तो नदी अपना वजूद खो देगी।  

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You