जोगी ने किया जाति आधारित आरक्षण समाप्त करने का कड़ा विरोध

  • जोगी ने किया जाति आधारित आरक्षण समाप्त करने का कड़ा विरोध
You Are HereNational
Wednesday, February 05, 2014-4:26 PM

रायपुर: छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री एवं वरिष्ठ कांग्रेस नेता अजीत जोगी ने जाति आधारित आरक्षण समाप्त करने की पार्टी के वरिष्ठ नेता जनार्दन द्विवेदी की मांग का कडा विरोध किया है। जोगी ने आज यहां प्रेस कान्प्रेंस में द्विवेदी की इस मांग को अनावश्यक और पार्टी की विचारधारा के खिलाफ बताते हुए पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी एवं उपाध्यक्ष राहुल गांधी से इस मसले पर होने वाली किसी बहस पर तत्काल रोक लगाने की मांग की है। उन्होंने दोनों नेताओं से द्विवेदी की इस मांग को तत्काल अस्वीकृत करने की भी घोषणा करने की मांग की।

 

उन्होंने कहा कि आजादी के 67वर्षों बाद भी दलितों, आदिवासी और पिछड़ा वर्ग की जो स्थिति है वह किसी से छिपी नहीं है। इतने वर्षों बाद भी शिक्षा और सरकारी नौकरी के क्षेत्र में दलित, आदिवासी एवं पिछड़ा वर्ग का प्रतिशत उनके आबादी के अनुपात में अत्यधिक कम है। देश में पिछले 5000 वर्षों से चली आ रही गैर बराबरी को कुछ हद तक कम करने के लिए संविधान में दलित, आदिवासियों और पिछड़ा वर्ग के लिए आरक्षण का प्रावधान है।

 

उन्होंने कहा कि इन वर्गों के लिये आरक्षण खैरात नहीं अपितु उनका अधिकार है। संविधान निर्माताओं ने बहुत सोच समझकर यदि आरक्षण का प्रावधान नहीं किया होता तो समाज में असंतोष व क्रोध इतना बढ़ जाता कि उसे रोकना असंभव हो जाता।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You