राज्‍यसभा में टला सांप्रदायिक हिंसा विरोधी बिल, नहीं बन पाई आम सहमति

  • राज्‍यसभा में टला सांप्रदायिक हिंसा विरोधी बिल, नहीं बन पाई आम सहमति
You Are HereNational
Wednesday, February 05, 2014-4:22 PM

नई दिल्ली: संसद के विस्तारित सत्र के आज पहले ही दिन राज्यसभा में सरकार ने नया सांप्रदायिक हिंसा विरोधी विधेयक पेश करने की कोशिश की पर विपक्ष के जबर्दस्त विरोध को देखते हुए यह विधेयक पेश नहीं हो सका और हंगामे को देखते हुए इसे टाल दिया गया। प्रश्नकाल के बाद जब केन्द्रीय गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे ने सदन में लंबित सांप्रदायिक हिंसा विरोधी विधेयक को वापस लेने के बाद उसकी जगह नया विधेयक पेश करने की कोशिश की तो भाजपा समेत अन्य विपक्षी दलों ने इसका कडा विरोध किया।

हंगामे के कारण राज्यसभा की कार्यवाही करीब 1230 बजे स्थगित कर दी गई। भोजनावकाश के बाद जब सदन की कार्यवाही दोबारा शुरु हुई तो उप सभापति पी जे कुरियन ने सदन में विपक्ष के नेता अरुण जेटली को सांप्रदायिक हिंसा विरोधी विधेयक पर अपना पक्ष रखने को कहा। जेटली ने इस विधेयक को संविधान के संघीय ढांचे के खिलाफ बताते हुए इसे पेश किए जाने का विरोध किया।

इसके बाद भाजपा के अलावा अन्नाद्रमुक, माकपा, सपा, बसपा, जद(यू) समेत सभी पार्टियों ने भी इस विधेयक का एक स्वर से विरोध किया। इस विधेयक को लेकर सत्ता पक्ष और विपक्ष में इतनी तीखी नोंकझोंक हुई कि सदन में अराजक सी स्थिति पैदा हो गई। यह देखते हुए कुरियन ने इस विधेयक को पेश किए जाने से टाल दिया।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You