प्रणब मुखर्जी पर बयान देकर मोदी ने राष्ट्रपति पद को राजनीतिक विवाद में घसीटा: तिवारी

  • प्रणब मुखर्जी पर बयान देकर मोदी ने राष्ट्रपति पद को राजनीतिक विवाद में घसीटा: तिवारी
You Are HereNational
Wednesday, February 05, 2014-9:51 PM

नई दिल्ली : प्रणब मुखर्जी पर नरेंद्र मोदी के बयान की तीखी आलोचना करते हुए केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार मनीष तिवारी ने आज कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि भाजपा नेता ने राष्ट्रपति के पद को राजनीतिक विवाद में घसीटने की कोशिश की है। तिवारी ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘मेरा मानना है कि यह अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण है कि गुजरात के मुख्यमंत्री ने भारत के राष्ट्रपति के पवित्र पद को राजनीतिक विवाद में घसीटकर संवैधानिक शुचिता को रौंदने की कोशिश की है ।’’

 केंद्रीय मंत्री से मोदी के आज दिए गए उस बयान पर प्रतिक्रिया मांगी गयी थी जिसमें उन्होंने कहा था कि 2004 में प्रणब मुखर्जी को कांग्रेस ने प्रधानमंत्री का पद नहीं दिया जबकि वह उस कुर्सी के ‘‘हकदार’’ थे। तिवारी ने कहा कि राष्ट्रपति भारत की सत्ता का प्रतीक है और उसे दलगत राजनीति से परे माना जाता है यह एक ऐसी गरिमा है जिसे बरकरार रखा जाना चाहिए।

कांग्रेस नेता ने कहा, ‘‘पर दुर्भाग्यवश गुजरात के मुख्यमंत्री में आप राजनीतिक नंबर बढ़ाने की ऐसी प्रवृति देख सकते हैं कि इस क्रम में वह भारत के राष्ट्रपति पद को भी नहीं छोड़ते।’’ उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री आजम खान की भैंस चोरी होने और उन्हें खोजने में राज्य पुलिस द्वारा की गयी कोशिशों के बाबत तिवारी ने कहा कि यह बहुत अहम है कि सार्वजनिक पद पर बैठे लोगों को सार्वजनिक सुविधाएं सिर्फ सार्वजनिक उद्देश्यों के लिए इस्तेमाल की जानी चाहिए।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You