अपने ‘गुरू’ तक को नहीं छोडऩे वाले मोदी से किसी ‘ज्ञान’ की जरूरत नहीं: कांग्रेस

  • अपने ‘गुरू’ तक को नहीं छोडऩे वाले मोदी से किसी ‘ज्ञान’ की जरूरत नहीं: कांग्रेस
You Are HereNational
Thursday, February 06, 2014-12:14 AM

नई दिल्ली : प्रणब मुखर्जी को दो मौकों पर प्रधानमंत्री बनने का अवसर नहीं देने के नरेंद्र मोदी के आरोप का जवाब देते हुए कांग्रेस ने आज गुजरात के मुख्यमंत्री को भाजपा के वरिष्ठ नेताओं के साथ ‘‘अपमानजनक’’ व्यवहार की याद दिलाई। कांग्रेस ने कहा कि मोदी ज्ञान देने वाले कौन होते हैं जबकि उन्होंने ‘‘अपने गुरू लालकृष्ण आडवाणी को भी नहीं छोड़ा था।’’ सूचना एवं प्रसारण मंत्री मनीष तिवारी ने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि मोदी ने राजनीतिक नंबर बढाने के लिए राष्ट्रपति पद को राजनीति में ‘घसीटने’ का प्रयास किया।

पार्टी प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार को करारा जवाब देते हुए कहा, ‘‘बड़ों के सम्मान के बारे में ज्ञान देने और कांग्रेस तथा अन्य को पाठ पढाने के बजाय मोदी को अपने अंदर झांकना चाहिए और आत्मनिरीक्षण के बाद खुद को ठीक करना चाहिए।’’ तिवारी ने कहा कि राष्ट्रपति देश का प्रतीक होता है और उसे दलगत राजनीति से उपर माना जाता है और इस व्यवस्था को बरकरार रखा जाना चाहिए। उन्होंने यहां संवाददाताओं से कहा कि लेकिन दुर्भाग्यवश गुजरात के मुख्यमंत्री में, आप प्रवृत्ति देखते हैं कि राजनीतिक रूप से नंबर बढाने के लिए उन्होंने राष्ट्रपति पद को भी नहीं छोड़ा।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You