इशरत मामले में संप्रग ने बदला अपना रूख: भाजपा

  • इशरत मामले में संप्रग ने बदला अपना रूख: भाजपा
You Are HereNational
Friday, February 07, 2014-11:44 PM

नई दिल्ली: भाजपा ने संप्रग पर इशरत जहां मुठभेड़ मामले में नरेन्द्र मोदी को फंसाने की कोशिश के तहत अपना रूख बदलने का आरोप लगाते हुए आज कहा कि इससे देश की खुफिया एजेंसियों और आतंकवाद के खिलाफ गुप्त अभियान चलाने की उनकी क्षमता को ‘अपूर्णीय क्षति’ पहुंची है। हालांकि, राज्य सभा में विपक्ष के नेता अरूण जेटली ने इन गुप्त अभियानों को कानून के दायरे में लाने और इनकी सीमित संसदीय जांच का समर्थन किया।

जेटली ने गुजरात के नेताओं को फंसाने की कोशिश के तहत केंद्र के रूख में बदलाव को लेकर तत्कालीन गृहमंत्री पी चिदंबरम पर निशाना साधते हुए कहा कि अभियान की समाप्ति आईबी को फंसाने के साथ हुई। उन्होंने कहा कि सर्वश्रेष्ठ बुद्धिमान व्यक्ति जो 2009 में गृह मंत्री थे, ने नरेन्द्र मोदी और अमित शाह को फंसाने के विचार के साथ अभियान चलाया। उन्होंने कहा कि भारत की खुफिया एजेंसियों और गुप्त अभियान चलाने की उनकी क्षमता को जो नुकसान पहुंचा है उसकी भरपाई नहीं हो सकती।

जेटली ने कहा कि आशा करते हैं कि एक परिपक्व लोकतंत्र होने के नाते इन अभियानों को कानून के दायरे में लाया जा सकता है और फिर इनकी सीमित संसदीय जांच की जा सकती है। उन्होंने कहा कि जब इशरत जहां की कथित मुठभेड़ हुई थी उस वक्त संप्रग 1 सत्ता में था। इसने उस वक्त यह रूख अपनाया था कि इशरत लश्कर ए तैयबा की सदस्य है और 15 जून 2004 की कथित मुठभेड़ वास्तविक है लेकिन बाद में जब शिवराज पाटिल की जगह चिदंबरम गृहमंत्री बने तो इसने अपना रूख बदल लिया। गृहमंत्रालय ने अपने हलफनामे में मुठभेड़ में अपना हाथ होने की बात से इनकार कर दिया। इसने पूरे अभियान की जांच के लिए याचिकार्ताओं से सहयोग करना शुरू कर दिया।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You