गुजरात की तर्ज पर यहां भी मजबूत संगठन खड़ा करना है: शाह

  • गुजरात की तर्ज पर यहां भी मजबूत संगठन खड़ा करना है: शाह
You Are HereNational
Saturday, February 08, 2014-12:40 AM

अलीगढ: भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव एवं उत्तर प्रदेश के प्रभारी अमित शाह ने आज यहां कार्यकताओं से आगामी दो मार्च को होने वाली प्रस्तावित रैली को सफल बनाने का आह्वान करते हुए कहा कि वह गुजरात की तर्ज पर यहां भी मजबूत संगठन खड़ा करना चाहते हैं जिससे कार्यकर्ताओं को सम्मान मिल सके।

शाह ने यहां आयोजित पार्टी कार्यकर्त्ताओं की बैठक में कहा कि उत्तर प्रदेश में गणेश परिक्रमा करने वालों को पदाधिकारी बना दिया जाता है जबकि गुजरात में तीन बार बूथ पदाधिकारी बनने पर मण्डल कार्यकारिणी में आता है और वह मण्डल, जिला एवं महानगर का अध्यक्ष बनता है यह सब रिकार्ड गुजरात भाजपा के पास हैं। उन्होंने कहा कि जिसके बलबूते पर पार्टी वहां लगातार तीन बार चुनाव जीत चुकी है।

उन्होंने कहा कि गुजरात की परिपाटी को प्रदेश में लागू करना है इसके लिए प्रत्येक कार्यकर्त्ता का रिकार्ड कम्पूटरीकृत किया जा रहा है जिससे कार्यकर्त्ताओं को सम्मान मिल सके। उन्होंने अलीगढ की बूथ संरचना पर असंतोष जाहिर करते हुए कहा कि अलीगढ में बूथ प्रबन्धन पर संतोषजनक कार्य नहीं किया गया है जिसे जल्दी ही पूरा करना होगा। शाह ने कहा कि भाजपा धर्म के आधार पर आरक्षण का विरोध  करती है और करती रहेगी। उन्होंने कहा कि कार्यकर्त्ता पिछडे वर्ग में घुसपैठ करने के लिये पिछडा वर्ग सम्मेलन का आयोजन करें।

बसपा, सपा और कांग्रेस की तुष्टिकरण की नीतियों को उजागर करने की जररत बताते हुए अमित शाह ने कहा कि यह दल अल्पसंख्यकों को आरक्षण का आश्वासन देकर लुभाने का प्रयास कर रहे हैं जबकि संविधान में 50 प्रतिशत से ज्यादा आरक्षण देने का प्रावधान नहीं है। पिछड़े वर्ग की बात कोई नहीं कर रहा है अगर पिछडे वर्ग की बात कर रही है तो वह केवल भाजपा है जिसने पिछडे वर्ग से ताल्लुक रखने वाले एक चाय विक्रेता बालक को प्रधानमंत्री पद का दावेदार घोषित किया है।

उन्होंने दावा किया कि देश और प्रदेश में भाजपा की लहर चल रही है और 80 सीटों वाले इस प्रदेश में कार्यकर्त्ताओं को पूरे मनोयोग से काम करना है यह तैयारी केवल लोकसभा चुनाव तक सीमित नहीं है यह विधानसभा चुनाव की भी तैयारी का भी अंग हो सकता है। शाह ने कहा कि अगर केन्द्र में भाजपा की सरकार बनेगी तो प्रदेश की सपा सरकार का गिरना भी तय माना जाए। उन्होंने प्रदेश के 44 जिलों में गुजारे अपने रात्रि प्रवास का जिक्र करते हुये कहा कि उससे उन्हें जो जानकारी मिली है उसको देखते हुए कार्यकर्त्ताओं की सूची कम्प्यूटरीकृत करके उसकी कीमत बढाना चाहता हूं जिससे उसके परिश्रम का फल मिले और गुटबाजी पर लगाम लग सके।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You