मनरेगा: सात साल बाद भी नहीं मिला 100 दिन का रोजगार

  • मनरेगा: सात साल बाद भी नहीं मिला 100 दिन का रोजगार
You Are HereNcr
Saturday, February 08, 2014-2:16 PM

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव आते ही पार्टियां अपने वोटरों को लुभाने के लिए बड़े-बड़े दावे करती रहती हैं। देश में सबसे ज्यादा रोजगार मनरेगा से दिया जा रहा है इस जुमले को केंद्र सरकार बार-बार दोहराती रहती है। लेकिन ये100 दिनों का रोजगार सिर्फ कागजों में ही सिमट कर रह जाता है। मनरेगा की सात वर्ष के बाद भी स्थिति यह है कि गरीब परिवारों को साल में सौ दिन का रोजगार नसीब नहीं हो रहा है।

राष्ट्रीय स्तर पर मनरेगा में रोजगार दिवस का औसत 45 दिनों का ही है। लेकिन हास्यास्पद बात यह है कि सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में मनरेगा के रोजगार दिवस का औसत इससे भी कम है। पंजाब, असम और पश्चिम बंगाल में भी श्रम दिवस का औसत 35 दिनों से कम है। ग्रामीण विकास मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक पिछले चार वर्षों से मनरेगा में प्रति परिवारों का औसत 50 दिन का ही रोजगार मिल रहा है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You