बकाया राशि वसूलने के लिए ऊर्जा विभाग को लिखा पत्र

  • बकाया राशि वसूलने के लिए ऊर्जा विभाग को लिखा पत्र
You Are HereNational
Sunday, February 09, 2014-1:06 AM
नई दिल्ली : एक तिहाई दिल्ली में बिजली सप्लाई करने वाली प्रमुख निजी बिजली कंपनी बी.एस.ई.एस. ने दिल्ली सरकार और एम.सी.डी. से उन पर बकाया राशि 450 करोड़ रुपए का तुरंत भुगतान करने के लिए दोनों को एक पत्र लिखा है। 
 
बी.एस.ई.एस. ने पत्र में लिखा है कि बी.एस.ई.एस. को 2 सप्ताह के भीतर नैशनल थर्मल पॉवर कॉरपोरेशन (एन.टी.पी.सी.) को 50 करोड़ रुपए का भुगतान करना है। सरकार और एम.सी.डी.पर वर्ष 2011 से स्ट्रीट लाइटों के बिजली बिल का कुल 450 करोड़ रुपए बकाया है, जो उसने अभी तक बी.एस.ई.एस. को नहीं दिया है। शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट ने बी.एस.ई.एस. की एक याचिका पर सुनवाई करते हुए उसे निर्देश दिया था कि वो 2 हफ्ते के अंदर एन.टी.पी.सी. को हर हाल में 50 करोड़ रुपए का भुगतान करे। 
 
बी.एस.ई.एस. पर एन.टी.पी.सी. का दिसम्बर और जनवरी महीने का बिजली खरीद का कुल 300 करोड़ रुपए बकाया है जो बी.एस.ई.एस. ने अभी तक उसे नहीं दिया है। बी.एस.ई.एस. को एन.टी.पी.सी. से 2 हजार से ज्यादा मेगावॉट बिजली मिलती है, जिसे वो एक तिहाई दिल्ली में सप्लाई करता है। बी.एस.ई.एस. का दिल्ली सरकार, डी.ई.आर.सी., एम.सी.डी. और दूसरे तमाम विभागों पर कुल 15 हजार करोड़ रुपए बकाया है, जो उसे अभी तक नहीं मिला है।
 
डी.ई.आर.सी. से भी बी.एस.ई.एस. को 6200 करोड़ रुपए मिलने हैं जो अभी तक नहीं मिले हैं। अब चूंकि सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के बाद 2 हफ्ते में बी.एस.ई.एस. को एन.टी.पी.सी. को 50 करोड़ रुपए का भुगतान करना है इसलिए उसने बकाया पैसे पत्र लिखकर और  नोटिस जारी कर मांगने शुरू कर दिए हैं। 

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You