अफजल गुरु की पहली बरसी पर कश्‍मीर में कड़ी सुरक्षा, मोबाइल इंटरनेट सेवा ठप

  • अफजल गुरु की पहली बरसी पर कश्‍मीर में कड़ी सुरक्षा, मोबाइल इंटरनेट  सेवा ठप
You Are HereNational
Sunday, February 09, 2014-3:15 PM

श्रीनगर: संसद पर हमले के दोषी अफजल गुरू की पहली बरसी के अवसर पर विरोध प्रदर्शन आयोजित करने की अलगाववादियों की योजनाओं को विफल करने के लिए कश्मीर घाटी के अधिकतर हिस्सों में आज कर्फ्यू जैसे प्रतिबंध लगा दिए गए। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि उत्तर कश्मीर में हंदवाडा को छोड़कर सभी बड़े शहरों में सुरक्षा प्रतिबंध लगाए गए हैं। यहां किसी भी विरोध प्रदर्शन को रोकने के लिए भारी संख्या में सीआरपीएफ और पुलिस के जवान तैनात किए गए हैं।
 
सूत्रों के अनुसार श्रीनगर समेत कई जिलों में सीआरपीसी की धारा 144 लगा दी गर्इ जिसके तहत चार या उससे अधिक लोगों के जुटने पर रोक है। अब तक हालात शांतिपूर्ण रहे हैं और घाटी में किसी तरह की अप्रिय घटना की कोई खबर नहीं है। ऐहतियाती उपायों के तहत आज घाटी में मोबाइल इंटरनेट सेवाएं भी रोक दी गर्इ। मोबाइल फोन और दूसरे प्लग-इन उपकरणों पर इंटरनेट सेवाएं आज तड़के बंद कर दी गयीं। हालांकि लैंडलाइन फोन के माध्यम से ब्रॉडबैंड कनेक्शन सामान्य रूप से काम कर रहा है।

इंटरनेट सेवाओं पर रोक लगाने की वजह ‘अफवाहों’ को फैलने से रोकना बताया जा रहा है। गुरू को पिछले साल 9 फरवरी को दिल्ली के तिहाड़ जेल में फांसी दी गयी थी। अलगाववादियों ने 11 फरवरी तक तीन दिन के बंद का आह्वान किया है। 11 फरवरी को जेकेएलएफ के संस्थापक मोहम्मद मकबूल भट्ट की बरसी है।
 
भट्ट को 20 साल पहले तिहाड़ जेल में फांसी के बाद दफना दिया गया था। अधिकारियों ने गुरू की बरसी से पहले कई शीर्ष अलगाववादी नेताओं को हिरासत में ले लिया। हुर्रियत कांफ्रेंस के कट्टरपंथी खेमे के नेता सैयद अली शाह गिलानी को कल दिल्ली से घाटी लौटने के साथ ही उनके घर में नजरबंद कर दिया गया।
 
लाल चौक की तरफ जाने वाले सभी रास्ते बंद कर दिए गए हैं और लोगों को लाल चौक की तरफ जाने की इजाजत नहीं दी जा रही। इस बीच पुलिस ने यहां आज अलग अलग विरोध प्रदर्शन आयोजित करने की कोशिश करते समय निर्दलीय विधायक राशिद शेख और जेकेएलएफ के अध्यक्ष यासीन मलिक को हिरासत में ले लिया। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि मलिक को तीन सहयोगियों के साथ हिरासत में ले लिया गया। इससे पहले मलिक हिरासत से बचने के लिए भूमिगत हो गए थे। उन्होंने ऐतिहासिक लाल चौक पर आज विरोध प्रदर्शन करने की घोषणा की थी।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You