आप सरकार 10000 विद्यार्थियों को छात्रवृत्ति देगी

  • आप सरकार 10000 विद्यार्थियों को छात्रवृत्ति देगी
You Are HereNcr
Sunday, February 09, 2014-6:35 PM

नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी (आप) की सरकार दिल्ली में 10,000 छात्रों को छात्रवृत्ति देने की योजना पर विचार कर रही है। आप का कहना है कि शीला दीक्षित सरकार ने विद्यार्थियों के लिए जारी 21 करोड़ रुपये का उचित इस्तेमाल नहीं किया। राजधानी दिल्ली में शिक्षा के स्तर को सुधारना आप सरकार और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की प्राथमिकताओं में शामिल है। दिल्ली के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने आईएएनएस के साथ विशेष बातचीत में बताया, ‘‘शिक्षा के क्षेत्र में कांग्रेस सरकार ने काफी धन खर्च किए, लेकिन सब अनियोजित तरीके से किया गया।

मैं 10,000 छात्रों को उच्च शिक्षा के क्षेत्र में छात्रवृत्ति देने की घोषणा करने जा रहा हूं।’’यह कदम कमजोर तबके के छात्रों को बढ़ावा देने का एक बेहतर प्रयास होगा। सिसोदिया ने कहा कि पूर्व की सरकार ने कमजोर तबके के मात्र सौ-डेढ़ सौ छात्रों को ही छात्रवृत्ति दी थी। बीते महीने उच्च शिक्षा विभाग के साथ बैठक के  दौरान सिसोदिया ने विभाग की स्थिति पर नाराजगी व्यक्त की थी। उन्होंने कहा था कि जब कमजोर छात्रों के लिए छात्रवृत्ति का प्रावधान है, तो पिछले साल सिर्फ सात छात्रों को ही छात्रवृति क्यों मिली।

उन्होंने कांग्रेस का नाम लिए बगैर आईएएनएस से कहा, ‘‘आपके पास धन है, फिर भी आप जरूरतमंद छात्रों की मदद नहीं कर रहे हैं।’’ कांग्रेस ने दिल्ली में 15 सालों तक लगातार शासन किया था। सिसोदिया ने कहा, ‘‘छात्रवृत्ति के लिए जारी किए गए 21 करोड़ रुपये सरकार के पास बेकार पड़े हैं और यहां कई छात्रों को छात्रवृत्ति की जरूरत है।’’ उन्होंने कहा कि अब तक इन रुपयों को जरूरतमंद छात्रों में वितरित करने की कोई निर्धारित योजना नहीं थी। ‘‘मैंने अधिकारियों से कहा है कि छात्रवृति के वितरण के लिए एक निश्चित योजना बनाएं।’’
आप के सूत्रों ने कहा कि छात्रवृत्ति के रुपयों को वितरित करने के लिए उचित योजना बना कर अगले पांच सालों में ये रुपये छात्रों में बांट दिए जाएंगे। सिसोदिया ने कहा, ‘‘जब हमारे पास छात्रों के लिए रुपये हैं, तो उन्हें क्यों न दिया जाए। क्यों उस धन को बैंकों में पड़े रहने दिया जाए।’’


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You