अनूपगढ़-बीकानेर रेल लाइन का सर्वे आखिर कब शुरू होगा?

  • अनूपगढ़-बीकानेर रेल लाइन का सर्वे आखिर कब शुरू होगा?
You Are HereNational
Monday, February 10, 2014-10:35 AM

अनूपगढ़: कई वर्ष पूर्व केन्द्र सरकार द्वारा सीमावर्ती क्षेत्र को महत्वपूर्ण मानते हुए रेलवे लाइन से वंचित अनूपगढ़-बीकानेर मार्ग पर रेल लाइन बिछाने की घोषणा की गई थी और लगभग 4 वर्ष पूर्व व्यापार मंडल में रेलवे विभाग के अधिकारी आए थे और उन्होंने अनूपगढ़ से बीकानेर तक रेल लाइन के लिए सर्वे करने की जानकारी दी थी। व्यापारियों तथा आमजन को यह बताया गया था कि बीकानेर तक कहां-कहां पर रेलवे द्वारा स्टेशनों का निर्माण किया जाएगा, लेकिन अभी तक न तो सर्वे का कार्य शुरू किया गया है और न ही क्षेत्र की जनता को इस संबंध में रेलवे द्वारा सही स्थिति से अवगत करवाया जा रहा है।

पाक सीमा के बिल्कुल नजदीक बसे अनूपगढ़ शहर को रेल सेवाओं के मामले में मजबूत राजनीतिक नेतृत्व के अभाव में रेल मंत्रालय के साथ ही रेलवे विभाग के अधिकारियों ने भी हमेशा ही अनदेखा किया है। हालांकि अगर लोगों की बात मानी जाए तो रेलवे द्वारा इस मार्ग का सर्वे एक बार पहले भी करवाया जा चका है, लेकिन बार-बार सर्वे के नाम पर इस महत्वपूर्ण कार्य को रेलवे द्वारा जानबूझ कर लेट किया जा रहा है।

इस संबंध में इस क्षेत्र के सांसद बीकानेर निवासी अर्जुन मेघवाल को लोगों ने बार-बार कहा, लेकिन उनका सारा ध्यान बीकानेर सहित लोकसभा क्षेत्र के अन्य हिस्सों पर अधिक रहा है, ऐसे में इस आवाज को उठाने व केन्द्र सरकार को जगाने के लिए राजनीतिक नेतृत्व शून्य नजर आ रहा है। रेल सेवाओं के मामले में समाचार-पत्रों के माध्यम से और मौखिक रूप से मीडिया तथा विभिन्न संगठनों के लोगों ने जब भी सांसद अर्जुन मेघवाल अनूपगढ़ आए, उन्हें इस मुद्दे पर कुछ करने की बात कही, लेकिन सांसद मेघवाल अनूपगढ़ क्षेत्र की आवाज को संसद में नहीं उठा सके और आज भी बीकानेर रेल लाइन सर्वे कार्य आरम्भ नहीं हो पाया है।

सांसद अर्जुन मेघवाल वैसे तो विकास कार्यों और जन-समस्याओं को हल करवाने के मामले में सक्रिय रहे हैं, लेकिन मात्र बीकानेर क्षेत्र के लिए। अनूपगढ़ से रेल सेवाओं का विस्तार न होना, सूरतगढ़-अनूपगढ़ पैसेंजर रेल सेवा के फेरे न बढ़ा पाना सहित अनेक मांगें लोगों ने सांसद के समक्ष रखीं और आस लगाई कि उनके कार्य होंगे, लेकिन सांसद मेघवाल लम्बी दूरी की रेल सेवाओं की बात तो दूर, सूरतगढ़ रेल सेवा के फेरे ही नहीं बढ़वा पाए।

गत दिनों श्रीगंगानगर के सांसद भरतराम ने जिले के रेल सेवा से वंचित स्टेशनों को रेल लाइन से जुड़वाने की कवायद में प्रयास किए और परिणाम स्वरूप जिले के कस्बे गजसिंहपुर से लेकर पदमपुर, गोलूवाला, रावतसर, तारानगर ददरेवा आदि के लिए लाइन बिछाने के कार्य हेतु सर्वे की कार्रवाई के आदेश जारी कर दिए गए, परन्तु पिछले कई बरसों से अनूपगढ़ से बीकानेर तक सर्वे की मांग अभी तक नेताओं की उदासीनता के कारण अधरझूल में लटक रही है। ऐसे में क्षेत्र के लोग बार-बार एक ही सवाल पूछ रहे हैं कि आखिर अनूपगढ़ से बीकानेर रेल लाइन का सर्वे कार्य कब आरम्भ होगा? इस संबंध में उत्तर-पश्चिम रेलवे मंडल बीकानेर स्थित डी.आर.एम. से जानकारी चाही तो उन्होंने बताया कि यह कार्य उनके अधीन नहीं आता है, इसकी शाखा ही अलग है। 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You