आंध्र प्रदेश का बंटवारा नहीं होना चाहिए: फारूक

  • आंध्र प्रदेश का बंटवारा नहीं होना चाहिए: फारूक
You Are HereNational
Monday, February 10, 2014-3:31 PM

नर्इ दिल्ली: केंद्रीय मंत्री फारूक अब्दुल्ला संप्रग सरकार की मुश्किल बढ़ाते हुए आज आंध्र प्रदेश को बांटकर तेलंगाना का गठन करने के उसके फैसले के खिलाफ बोले और कहा कि राज्य के लोग जब नहीं चाहते तो उसका बंटवारा नहीं होना चाहिए।
  
इस मुद्दे को लेकर संसद की कार्यवाही एक बार फिर स्थगित होने के बाद अब्दुुल्ला ने संसद के बाहर संवाददाताओं से कहा, ‘‘मेरा मानना है (तेलंगाना मुद्दा) नियंत्रण से बाहर चला गया है। आपने देखा है कि 70 प्रतिशत, 80 प्रतिशत लोग बंटवारा नहीं चाहते, इसके बावजूद बंटवारा हो रहा है...राज्य के लोग बंटवारा नहीं चाहते। हमें बंटवारा नहीं करना चाहिए।’’
 
नवीन एवं नवीकरणीय उर्जा मंत्री ने बताया कि मंत्रिमंडल ने बंटवारे को मंजूरी दी थी। उन्होंने कहा कि उस बैठक में उन्होंने हिस्सा नहीं लिया था क्योंकि वह जम्मू में एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए गए हुए थे। अब्दुल्ला ने कहा कि अलग राज्य की मांग जवाहर लाल नेहरू के प्रधानमंत्री कार्यकाल से ही उठ रही थी ,लेकिन उसे ‘‘किसी तरह से दबाए और संभाले रखा गया।’’तेलंगाना के गठन का विरोध और उसका समर्थन करने वाले सांसदों के हंगामे के चलते सदन की कार्यवाही बाधित हो रही है। सरकार ने तेलंगाना गठन के लिए विधेयक को मंजूरी प्रदान कर दी है।
 
आज लोकसभा की कार्यवाही शुरू होते ही अलग तेलंगाना राज्य गठन के समर्थक और विरोधी सांसद नारेबाजी करते हुए सदन के बीचोंबीच पहुंच गए। राज्यसभा में तेलंगाना और अन्य मुद्दों को लेकर हंगामे की स्थिति रही। तेदेपा, द्रमुक और अन्नाद्रमुक सदस्य नारेबाजी करते हुए सदन के बीचोंबीच पहुंच गए जिसके चलते सदन की कार्यवाही दो बार स्थगित करनी पड़ी। इसमें से एक स्थगन कार्यवाही शुरू होने के एक मिनट बाद ही हुई।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You