सड़क दुर्घटना: 279 पेड़ों को काटने का प्रस्ताव

  • सड़क दुर्घटना: 279 पेड़ों को काटने का प्रस्ताव
You Are HereNational
Tuesday, February 11, 2014-2:48 PM

रायपुर: सड़क किनारे पेड़ों से लगातार हो रही दुर्घटना को लेकर जगदलपुर मार्ग से पेड़ों को हटाने का मामला छत्तीसगढ़ विधानसभा में गूंजा। इस बीच सड़क किनारे पेड़ों को काटने के लिए कलेक्टर द्वारा अनुमति नहीं दी जा रही है। लोक निर्माण मंत्री राजेश मूणत ने बताया कि कार्यपालन अभियंता, लोनिवि राष्ट्रीय राजमार्ग संभाग, जगदलपुर द्वारा 15 मार्च 2010 को कलेक्टर कांकेर को 13 पेड़ एवं कलेक्टर बस्तर (जगदलपुर) जगदलपुर को 49 पेड़ों की कटाई की अनुमति हेतु प्रस्ताव प्रेषित किया गया था जिसकी अनुमति अप्राप्त है। रायपुर-जगदलपुर मार्ग के 279 पेड़ों को काटने का प्रस्ताव भेजा गया है।

 

कमिश्नर बस्तर (जगदलपुर) द्वारा अनियंत्रित वाहनों के पेड़ से टकराकर होने वाली दुर्घटनाओं को रोकने के लिए अतिआवश्यक पुराने पेड़ों को काटने हेतु प्रस्ताव प्रेषित करने हेतु निर्देशित किया गया है, जिसके परिपालन में पुन: कार्यपालन अभियंता, लो.नि.वि., राष्ट्रीय राजमार्ग संभाग, जगदलपुर द्वारा कलेक्टर कांकेर को 54 पेड़, कलेक्टर कोंडागांव को 162 पेड़ एवं कलेक्टर बस्तर (जगदलपुर) को 63 पेड़ इस प्रकार कुल 279 पेड़ों की कटाई की अनुमति हेतु प्रस्ताव 31 जनवरी 2014 को प्रेषित किया गया है।

 

ध्यानाकर्षण सूचना के माध्यम से विधायक संतोष बाफना ने कहा कि राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक 30 पर सड़क के किनारे लगे पेड़ यात्रियों के लिए मौत का सबब बन चुके हैं। तीन दशक पूर्व रायपुर-जगदलपुर मार्ग सिंगल सड़क थी और उस दौरान ये पेड़ सड़क से काफी दूर थे, लेकिन जब इसे डबल किया गया तो इन पेड़ों को शिफ्ट नहीं किया गया, जिससे ये पेड़ लगभग सड़क पर ही आ गए और ये पेड़ यात्रियों के लिए दुर्घटना का कारण बन चुके है।

 

रायपुर-जगदलपुर मार्ग पर होने वाली दुर्घटनाओं में 90 प्रतिशत, दुर्घटनाएं इन्हीं पेड़ों से टकराने के कारण होती हैं। प्रतिवर्ष हजारों यात्री इन दुर्घटनाओं में काल कवलित हो जाते हैं। वर्ष 2013 में इन मार्ग पर सड़क हादसे में लगभग दो दर्जन लोगों की जाने जा चुकी है और इन सभी हादसों का कारण सड़क किनारे के पेड़ ही रहे हैं। मंत्री ने बताया कि वर्तमान में इस राष्ट्रीय राजमार्ग की डीमरीकृत चौड़ाई 7.00 मीटर (डबल लेन) है एवं डामरीकृत सतह पर पेड़ नहीं है।

 

यह कथन सत्य है कि तीन दशक पूर्व राष्ट्रीय राजमार्ग क्रं. 30 (पुराना रा.रा. 43) रायपुर-जगदलपुर मार्ग सिंगल लेन मार्ग था, जब इस मार्ग को डबल लेन किया गया तो डामरीकरण चौड़ाई 7.00 मीटर एवं मिट्टी की पटरी की चौड़ाई दोनों ओर 2.50-2.50 मीटर इस प्रकार कुल चौड़ाई 12.00 मीटर रखी गई।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You