कृषि कर्मण पुरस्कार: राष्ट्रपति से सम्मानित हुए चौहान

  • कृषि कर्मण पुरस्कार: राष्ट्रपति से सम्मानित हुए चौहान
You Are HereNational
Tuesday, February 11, 2014-3:28 PM

भोपाल: देश के खाद्यान्न भण्डार में सर्वाधिक योगदान के लिए राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने कल नई दिल्ली में मध्यप्रदेश को केन्द्र सरकार के प्रतिष्ठित ‘कृषि कर्मण पुरस्कार’ से लगातार दूसरी बार सम्मानित किया। आधिकारिक विज्ञप्ति में आज यहां कहा गया है कि प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने यह पुरस्कार राष्ट्रपति से एक समारोह में ग्रहण किया। सूत्रों ने बताया कि वर्ष 2011-12 में राज्य का कुल खद्यान्न उत्पादन 230 लाख मीट्रिक टन था, जबकि 2012-13 में यह बढ़कर 277.84 लाख मीट्रिक टन के साथ मध्यप्रदेश देश में पहले स्थान पर है, जिसमेंं 161 लाख टन गेहूं उत्पादन शामिल है।

 

प्रदेश लगातार दो अंकों की कृषि वृद्धि दर बनाए रखने में सफल हुआ है। वर्ष 2010-11 में ‘कृषि कर्मण पुरस्कार’ की स्थापना के बाद उत्पादन श्रेणी में लगातार दूसरी बार यह अवार्ड प्राप्त करने वाला मध्यप्रदेश देश का पहला राज्य है। यह पहली बार है, जब मध्यप्रदेश ने गेहूं के साथ-साथ धान और दलहन तीनों मेें देश में सर्वोत्तम बढ़त प्राप्त की है। इस मौके पर राज्य के छिंदवाड़ा जिले की शशि खंडेलवाल और उज्जैन जिले के बडनगऱ के योगेन्द्र कौशिक को प्रगतिशील किसान के रूप में सम्मानित किया गया। इस अवसर पर केंद्रीय कृषि मंत्री शरद पवार, केंद्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्री वीरप्पा मोइली, मध्यप्रदेश के कृषि मंत्री गौरी शंकर बिसेन के अलावा कई अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You