लोकसभा में जबरदस्त हंगामा, सांसदों की आंखों में मिर्च पाउडर फेंका

You Are HereNational
Thursday, February 13, 2014-5:31 PM

नई दिल्ली: कांग्रेस से निष्कासित आंध्र प्रदेश के एक सांसद के रवैए ने गुरुवार को देश को उस वक्त सन्न कर दिया, जब उन्होंने लोकसभा में काली मिर्च का पाउडर छिड़क दिया। सांसद ने यह कदम पृथक तेलंगाना राज्य के गठन के विरोध में उठाया।

संसद में हुई अब तक यह पहली ऐसी घटना है, जिसके बाद सांसदों और लोकसभा अधिकारियों और वहां मीडिया दीर्घा में मौजूद पत्रकारों को खांसी और आंखों में जलन होने लगी। विजयवाड़ा से सांसद एल.राजगोपाल पर साथी सांसदों, मार्शलों ने फौरन काबू पा लिया। इस सबसे निचले सदन का माहौल और कड़वा हो गया, जहां सुबह से ही नारेबाजी की वजह से हंगामे की स्थिति थी।

लेकिन हंगामे के बीच भी सरकार तेलंगाना विधेयक पेश करने में सफल रही। इसके साथ ही पृथक तेलंगाना राज्य के गठन का रास्ता साफ हो गया।  तेलंगाना का विरोध कर रहे तेलुगू देशम पार्टी (तेदेपा) के सदस्य एम.वेणुगोपाल ने अध्यक्ष का माइक्रोफोन तोड़ दिया। हंगामे के बीच सदन की कार्यवाही दो बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई, सदन का कार्यवाही पांच फरवरी को शुरू हुए सत्र से ही बाधित चल रही है।

गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे ने वादा किया कि सांसदों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। शिंदे ने कहा, ‘‘हम कड़ी कार्रवाई करेंगे।’’ उन्होंने आगे कहा कि तेलंगाना विधेयक सदन में पेश हो चुका है और यह अब संसद की संपत्ति है।’’

संसदीय कार्यमंत्री कमलनाथ ने कहा, ‘‘हंगामा संसदीय लोकतंत्र पर बड़ा धब्बा है। कई नेताओं ने मुझसे अनुरोध किया है कि मैं सांसदों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग अध्यक्ष से करूं। यह बेहद शर्मनाक घटना है।’’

कमलनाथ ने कहा कि उन्हें बताया गया कि सदन में कोई सदस्य चाकू भी लेकर आया गया था। हालांकि उन्होंने खुद चाकू देखने की बात नहीं स्वीकारी है।  हंगामा तब शुरू हुआ, जब शिंदे ने तेलंगाना विधेयक पेश किया। बिना समय गंवाए राजागोपाल ने काली मिर्च का पाउडर छिड़क दिया।

इस घटना के बाद तीन सांसदों को अस्पताल ले जाया गया और अन्य को फौरन सदन से बाहर ले जाया गया। कुछ सांसदों के उपचार के लिए चिकित्सकों को बुलाया गया।  राजगोपाल को बाद में सुरक्षाकर्मी बाहर ले गए। राजगोपाल सीमांध्र के उन छह सांसदों में शामिल हैं जिन्हें कांग्रेस ने मंगलवार को निष्कासित कर दिया था।

निष्कासित सांसदों का उद्देश्य संसद में तेलंगाना विधेयक को पारित न होने देना था। कांग्रेस ने मंगलवार को सब्बम हरि, जी.वी.हर्ष कुमार, वी.अरुण कुमार, लगदापति राजगोपाल, आर.संबाशिवा राव और ए. साई प्रताप को संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव का नोटिस देने के लिए निष्कासित कर दिया था।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You