विधानसभा में जन लोकपाल विधेयक का समर्थन करने को बाध्य नहीं: बिन्नी

  • विधानसभा में जन लोकपाल विधेयक का समर्थन करने को बाध्य नहीं: बिन्नी
You Are HereNational
Thursday, February 13, 2014-8:26 PM

नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी (आप) से निष्कासित विधायक विनोद कुमार बिन्नी ने आज कहा कि वह दिल्ली विधानसभा में जन लोकपाल विधेयक का तभी समर्थन करेंगे जब वह अन्ना हजारे के मसौदे की तर्ज पर हो और यह कि वह इस मुद्दे पर पार्टी व्हिप से बंधे नहीं हैं। बागी विधायक ने पार्टी से निकाले जाने के बाद विधानसभा में मतदान की अपनी स्थिति पर संवाद को लेकर विधानसभाध्यक्ष को भी निशाना बनाया।

उन्होंने कहा कि हाल ही में उन्होंने विधानसभा अध्यक्ष एम एस धीर को जन लोकपाल विधेयक पर अपने मताधिकार के बारे में पूछा था। यह विधेयक कल पेश किया जा सकता है। बिन्नी ने विधानसभा के बाहर संवाददाताओं से कहा, ‘‘कल मुझे अपने पत्र के जवाब में विधानसभाध्यक्ष की ओर मेरे पत्र मिला। उन्होंने अपने जवाबी पत्र में उच्चतम न्यायालय के वर्ष 1996 के आदेश का हवाला दिया जिसमें कहा गया है कि यदि राजनीतिक दल अपने टिकट पर निर्वाचित होने वाले किसी सदस्य को यदि निष्कासित कर देता है तो भी वह उसी पार्टी से संबद्ध रहेंगे।’’

 बागी आप विधायक ने कहा, ‘‘लेकिन उन्होंने (अध्यक्ष ने) अपने पत्र में उच्चतम न्यायालय के 2010 के आदेश का उल्लेख नहीं किया है जिसमें 1996 के आदेश पर स्थगन लगा दिया है और इस मामले को सुनवाई के लिए बड़ी पीठ के पास भेज दिया है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ऐसा कोई प्रावधान नहीं है कि पार्टी से निकाले गए विधायक पार्टी का समर्थन करते रहे। ’’ उन्होंने कहा कि उन्होंने स्पष्टीकरण मांगते हुए अध्यक्ष को पत्र भेजा है।

बिन्नी ने कहा, ‘‘अपने पत्र में मैंने अध्यक्ष को 24 घंटे का वक्त दिया है। यदि वह इस समय सीमा में स्पष्टीकरण नहीं देते तो मैं न्यायालय जाउंगा।’’

जब उनसे पूछा गया कि क्या वह विधानसभा में जन लोकपाल विधेयक का समर्थन करेंगे, तो उन्होंने कहा, ‘‘मैं विधेयक की प्रति नहीं देखी है। यदि यह वह विधेयक है जिसकी अन्ना हजारे ने मांग की थी, तो मैं उसका समर्थन करूंगा।’’ लेकिन उन्होंने साफ किया कि वह सरकार के पक्ष में वोट डालने के लिए बाध्य नहीं हैं। इसी बीच कांग्रेस विधायकों और पूर्व विधायकों ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल लोगों से किए गए वादों को पूरा करने की मांग करते हुए विधानसभा परिसर के बाहर धरना दिया।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You