केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री के आश्वासन पर मेडिकल छात्रों का हड़ताल खत्म

  • केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री के आश्वासन पर मेडिकल छात्रों का हड़ताल खत्म
You Are HereNational
Friday, February 14, 2014-12:52 AM
 नई दिल्ली : एमबीबीएस कोर्स को बढाऩे के विरोध में मेडिकल छात्रों की हड़ताल स्वास्थ्य मंत्री गुलाम नबी आजाद के आश्वासन के बाद वीरवार को खत्म हो गई। पांच साल की जगह सात साल मंजूर किए गए एमबीबीएस पाठ्यक्रम की रूपरेखा की समीक्षा की मांग करते हुए एम्स समेत दिल्ली के शीर्ष अस्पतालों के वरिष्ठ रेजीडेंट डॉक्टर और मेडिकल छात्र हड़ताल पर चले गए थे।
 
जिस वजह से वीरवार को प्रमुख अस्पतालों के ओपीडी बंद कर दिए गए थे। हड़ताल के चलते अस्पतालों में मरीजों को आंशिक रूप से परेशानी का सामना करना पड़ा। यूसीएमसी मेडिकल कालेज के रवि ने बताया कि गुलाम नबी आजाद ने कहा कि कोर्स में समय सीमा की बढ़ोतरी प्रिंट की गड़बड़ी के चलते हुई है। छात्रों की मांग थी की वे इंटर्न के लिए गांव जाने को तैयार है, लेकिन उसे उनकी डिग्री के साथ न जोड़ा जाए । जिसको स्वास्थ्य मंत्री ने मान लिया है और कहा है कि वे पीजी के बाद भी एक साल की ग्रामीण अस्पतालों में  इंटर्न कर सकते हैं। 
 
माना जा रहा है कि एम्स, गुरू तेग बहादुर अस्पताल, सफदरजंग अस्पताल, मौलाना आजाद मेडिकल कॉलेज, लेडी हार्डिंग मेडिकल कॉलेज, दीन दयाल उपाध्याय और राम मनोहर लोहिया अस्पताल के डॉक्टरों की अनिश्चितकालीन हड़ताल के ऐलान के चलते सरकार को यह कदम उठाना पड़ा।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You