सुप्रीम कोर्ट की वृहद पीठ करेगी स्वतंत्र कुमार के खिलाफ याचिका पर विचार

  • सुप्रीम कोर्ट की वृहद पीठ करेगी स्वतंत्र कुमार के खिलाफ याचिका पर विचार
You Are HereNational
Friday, February 14, 2014-2:26 PM

नर्इ दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने आज कहा कि पूर्व न्यायाधीश स्वतंत्र कुमार के खिलाफ कथित यौन उत्पीडऩ के आरोप की जांच के लिये कानून की पूर्व इंटर्न की याचिका पर तीन न्यायाधीशों की खंडपीठ 26 मार्च को विचार करेगी। प्रधान न्यायाधीश पी सदाशिवम और न्यायमूर्ति रंजन गोगोई की दो सदस्यीय पीठ इस मामले में हस्तक्षेप के लिए दाखिल दो अर्जियों पर भी सुनवाई के लिये सहमत हो गयी।

न्यायालय ने इस समय राष्ट्रीय हरित न्यायाधिकरण के अध्यक्ष न्यायमूर्ति कुमार के जवाब की प्रति न्याय मित्र को मुहैया कराने का निर्देश दिया। न्यायमूर्ति कुमार ने पूर्व इंटर्न के आरोपों के जवाब में दाखिल अपने हलफनामे में कहा कि उनके खिलाफ लगाये गये आरोप दुर्भावनापूर्ण साजिश का हिस्सा है और इसका मकसद उनकी प्रतिष्ठा को ठेस पहुंचाना है।


उन्होंने कहा कि शीर्ष अदालत के न्यायाधीशों की बैठक में पांच दिसंबर, 2013 को पारित प्रस्ताव, जिसमें कहा गया था कि शीर्ष अदालत अपने पूर्व न्यायाधीशों के खिलाफ किसी प्रकार की शिकायत पर विचार नहीं करेगा, सही है ओर उन्होंने अपने खिलाफ इंटर्न के सभी आरोपों से खंडन किया है। न्यायालय ने 15 जनवरी को न्यायमूर्ति कुमार को नोटिस जारी करने के साथ ही वरिष्ठ अधिवक्ता फली नरिमन और पी पी राव को इस मामले में मदद के लिये न्याय मित्र नियुक्त किया था। न्यायालय ने साथ ही अटार्नी जनरल गुलाम वाहनवती से भी इस मामले में मदद करने का आग्रह किया था।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You