मरुमहोत्सव के दूसरे दिन लोक कलाकारों ने बिखेरी रंगारंग छटा

  • मरुमहोत्सव के दूसरे दिन लोक कलाकारों ने बिखेरी रंगारंग छटा
You Are HereNational
Friday, February 14, 2014-5:33 PM

जैसलमेर: राजस्थान के जैसलमेर जिले में आयोजित विश्वविख्यात मरूमहोत्सव के दूसरे दिन लोक कलाकारों ने रंगारंग लोक संस्कृति की छटा बिखेरी वहीं हास्य कलाकार रविन्द्र जोनी ने  उपस्थित जन सैलाब को खूब हंसाया। शहीद पूनम सिंह स्टेडियम में कल शाम आयोजित रंगारंग कार्यक्रम में जैसलमेर सहि राज्य के विभिन्न जिलों एवं महाराष्ट्र व मध्यप्रदेश से आए लोक कलाकारों ने लोक संस्कृति की छटा बिखेर पूरे माहौल को आनंदित कर दिया एवं लोक संस्कृति से रबर कराया।

महोत्सव में मध्यप्रदेश के बालाघाट से आये लांफटर चैलेंज रविन्द्र जॉनी ने हास्य फुलवारियां पेश कर दर्शकों को खूब हंसाया।  जोधपुर के ख्यातनाम कलाकार छवरलाल गहलोत ने विवाह उत्सवों  युद्ध के लिए रवाना होती सेना एवं युद्ध जीत कर पुन: आती सेना के स्वागत में  प्रस्तुत किए जाने वाले कच्छी घोड़ी नृत्य को बहुत शानदार रप से पेश किया। 
 
सांस्कृतिक संघ्या में जैसलमेर के रामगढ़ के कलाकार रबनखां और उनके साथियों ने वीरता के गीत प्रस्तुत कर पूरे माहौल को देशभक्ति की भावना से ओतप्रोत किया । बाडमेर के अन्तर्राष्ट्रीय  ख्याति प्राप्त लोक कलाकार पुष्कर प्रदीप ने भवाई नृत्य कर सभी को आश्चर्य चकित किया उसके साथ आई महिला कलाकार ने कांच के टुकडों, कांच की ग्लासों, नुकीली कीलों, नंगी तलवार पर नृत्य कर शारीरिकसंतुलन का अद्भुद नमूना पेश किया।
  
इस अवसर पर  अन्तर्राष्ट्रीय लोक कलाकार मूलसागर निवासी ताराराम भील ने अलगोजा पर राजस्थानी गीतों की मधुर धुनों को  पेश कर दर्शकों को मोहित किया। भुरतपुर के लोक कलाकार अशोक शर्मा एवं कलाकारों ने  मयूर नृत्य की बहुत ही सुंदर प्रस्तुती पेश कर दर्शकों की वाह वाही लूटी। पश्चिमी क्षेत्रीय सांस्कृतिक केन्द्र उदयपुर के गुजराज से आए लोक कलाकार वनराज आर गोयल ने नवरात्रि पर आयोजित होने वाले गरबा नृत्य को प्रस्तुत कर गुजराती संस्कृति से रबर करा दिया। मध्यप्रदेश के कलाकार उमेश कुमार नामदेव एवं महाराष्ट्र के लोक कलाकार साहिर लअवधूत विभूते ने बधाई व लावणी की प्रस्तुती कर उनके प्रांत का परिचय दिया।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You