ट्रेनों में छेडख़ानी और यौन उत्पीडऩ के मामलों में बढ़ोत्तरी

  • ट्रेनों में छेडख़ानी और यौन उत्पीडऩ के मामलों में बढ़ोत्तरी
You Are HereNcr
Friday, February 14, 2014-6:14 PM

नई दिल्ली: महिला यात्रियों की सुरक्षा को सुनिश्चित करने के लिए रेलवे द्वारा किये गये अनेक उपायों के बावजूद ट्रेनों में छात्राओं सहित महिला यात्रियों के साथ छेड़छाड़ और यौन उत्पीड़ऩ के मामलों की संख्या में बढोत्तरी हुई है । रेल मंत्रालय के आकड़ों के मुताबिक 2013 में यौन उत्पीड़ऩ के 189 मामले दर्ज किये गये, जबकि 2012 में ऐसे मामलों की संख्या 119 और 2011 में 72 थी । इसी तरह 2013 में लड़कियों के साथ छेडख़ानी के 53 मामले हुए, जबकि 2012 में ऐसे मामलों की संख्या 46 और 2011 में 34 थी ।

जहां तक बलात्कार के मामलों का सवाल है 2013 में बलात्कार के पांच मामले दर्ज किये गये जबकि 2012 में यह संख्या 7 और 2011 में 3 थी । आकड़ों के मुताबिक 2013 में महिलाओं के खिलाफ अपराध के लिए 290 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया । यद्यपि संसद की एक समिति ने रेलगाडिय़ों में महिला यात्रियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए महिलाओं के डिब्बों के भीतर सुरक्षा कैमरे और आपातकालीन अलार्म लगाने तथा उसे ट्रेन ड्राइवर के केबिन और गार्ड के केबिन से जोडऩे की सिफारिश की थी लेकिन रेलवे के पास तत्काल इसके लिए योजना नहीं है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You