हमें ऐसा हिदुस्तान चाहिए जहां हर सोच की इज्जत हो: राहुल गांधी

You Are HereNational
Saturday, February 15, 2014-6:55 PM

कर्नाटक:  कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने आज भाजपा पर भ्रष्टाचार निरोधक छह विधेयकों को संसद में पारित नहीं होने देने का आरोप लगाया जो कि सरकार के भ्रष्टाचार निरोधक ढांचे का हिस्सा हैं। छह विधेयकों को पारित कराने पर जोर देने वाले गांधी ने यहां एक जनसभा में कहा, ‘‘उन विधेयकों के खिलाफ कौन खड़ा है? हम उन्हें पारित कराना चाहते हैं।

हमें संसद में रोका जा रहा है। कौन रोक रहा है? इसे भाजपा रोक रही है। वे संसद नहीं चलने दे रहे।’’  संप्रग सरकार के खिलाफ हमला बोलने के लिए भ्रष्टाचार को अपना मुख्य हथियार बनाने वाली भाजपा पर निशाना साधते हुए गांधी ने कहा, ‘‘संसद में आज भ्रष्टाचार निरोधक छह विधेयक लंबित हैं। ये विधेयक आपकी मदद के लिए हैं। विधेयक आपको शक्ति देंगे।’’ 

गांधी ने कहा, ‘‘वे :भाजपा: केवल बातें करते हैं, हम प्रगति लाते हैं।’’ उन्होंने जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि वह कांग्रेस ही थी जिसने जनता को आरटीआई जैसे कानून के जरिये अधिकार दिये।   उन्होंने कहा, ‘‘आरटीआई कौन लाया? आपको आपके हाथों में अधिकार किसने दिये। यह कांग्रेस ने किया। जो भी बंद दरवाजे के पीछे हो रहा था आपको उसकी जानकारी आरटीआई से मिल रही है। लोकपाल विधेयक कौन ले आया? उसे भाजपा नहीं लायी। उसे कांग्रेस लेकर आयी।’’

भ्रष्टाचार से मुकाबले के लिए एक ढांचा बनाने पर जोर देते हुए गांधी ने हाल में विपक्षी दलों से चल रहे संसद सत्र में छह विधेयक पारित कराने के लिए समर्थन देने की अपील की थी। तेलंगाना और अन्य मुद्दों को लेकर संसद की कार्यवाही ठीक ढंग से नहीं चल पा रही है।  उन्होंने कहा था, ‘‘मैं विपक्ष से भी अनुरोध करता हूं कि वे ऐसे विधेयकों को ना रोकें...ये विधेयक भ्रष्टाचार से (मुकाबले:) से संबंधित हैं और ये विधेयक रेहड़ी वाले के अधिकारों से संबंधित है।

ये विधेयक पारित कराने के लिए सभी को हाथ मिलाना चाहिए।’’ जिन छह विधेयकों के मसौदे पर गांधी जोर दे रहे हैं उनमें न्यायिक मानक और जवाबदेही विधेयक, 2010, भंडाफोड़ करनेे वालों का संरक्षण विधेयक, 2011, समान और सेवाएं समयबद्ध ढंग से प्राप्त करने और शिकायत निवारण विधेयक, 2011, विदेशी सरकारी और अंतरराष्ट्रीय लोक संगठन अधिकारी रिश्वतखोरी रोकथाम विधेयक, 2011, भ्रष्टाचार रोकथाम संशोधन: विधेयक, 2013 और सार्वजनिक खरीद विधेयक 2012 शामिल हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You