पत्रकारिता विश्वविद्यालय बना RSS का चारागाह: कटारे

  • पत्रकारिता विश्वविद्यालय बना RSS का चारागाह: कटारे
You Are HereNational
Sunday, February 16, 2014-1:32 PM

भोपाल: मध्य प्रदेश विधानसभा में विपक्ष के नेता सत्यदेव कटारे ने माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) का चारागाह बना देने का राज्य सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा है कि यहां पिछले दिनों में आरएसएस एवं भाजपा से जुड़े लोगों की पात्र नहीं होते हुए भी अवैध नियुक्तियां की गई हैं। कटारे ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सांसद अरूण यादव के साथ कल यहां संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि इस विश्वविद्यालय में कुलपति एवं कुलसचिव का कार्यकाल समाप्त होने के बावजूद वे वहां डटे हुए हैं।

 

उन्होंने बताया कि इस बारे में उन्होने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को 13 जनवरी से 10 फरवरी तक कई पत्र लिखकर विश्वविद्यालय में हो रही गड़बडिय़ों की ओर ध्यान खींचा, लेकिन चौहान ने कोई जवाब नहीं दिया और कोई कार्रवाई भी नहीं की। विपक्ष के नेता ने कहा कि वह एक सप्ताह के अंदर इसकी शिकायत लोकायुक्त संगठन से करेंगे। उन्होने कहा कि चूंकि अवैध नियुक्तियों संबंधी मामला उच्च न्यायालय में विचाराधीन है, इसलिए वह उस बारे में कुछ नहीं कहेंगे, लेकिन इस विश्वविद्यालय से संबंधित अन्य मामले भी गंभीर हैं।

 

कटारे ने कहा कि कुलसचिव ने अपने आदेश से ही अपनी सेवावृद्धि कर ली और कुलपति का भी कार्यकाल बढ़ा दिया, जबकि इसका उन्हें अधिकार ही नहीं है। उनकी विश्वविद्यालय के कर्मचारियों से अपील है कि वे इन दोनों अधिकारियों के आदेश मानने से इंकार कर दें, क्योंकि वे अवैध रूप से काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय में नियुक्तियों के सारे अधिकार कुलपति को दे दिए गए हैं और इससे पहले रिक्त पदों के विज्ञापन तक नहीं निकाले गए हैं।

 

उन्होंने कहा कि स्वायत्त संस्थाओं में राज्य वित्त सेवा का अधिकारी, वित्त अधिकारी होना चाहिए, लेकिन यहां आरएसएस के स्थानीय प्रचारक अरुण जैन के भतीजे आदित्य जैन की पत्नी को वित्त अधिकारी बना रखा है, जबकि आदित्य खुद कार्यालय अधीक्षक हैं। विपक्ष के नेता ने कहा कि पूर्व उच्च शिक्षा मंत्री लक्ष्मीकांत शर्मा के भांजे वैभव दुबे तथा उनके करीबी खनिज कारोबारी सुधीर शर्मा से जुड़े राकेश योगी को भी यहां नियुक्ति मिली हुई है। कई कर्मचारी तो ऐसे हैं, जिनकी नियुक्ति विश्वविद्यालय में है और वे वहां से वेतन भी लेते हैं, लेकिन काम भाजपा के प्रदेश मुख्यालय में करते हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You