66 साल की पीड़ा 66 दिन में ठीक नहीं हो सकती: वसुन्धरा राजे

  • 66 साल की पीड़ा 66 दिन में ठीक नहीं हो सकती: वसुन्धरा राजे
You Are HereNational
Monday, February 17, 2014-4:41 PM

जयपुर: मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने सवाई माधोपुर जिले के खंडार कस्बे में आयोजित जनसुनवाई कार्यक्रम में लोगों को सम्बोधित करते हुए कहा कि 66 साल की पीड़ा 66 दिन में ठीक नहीं हो सकती, उसके लिए समय चाहिए। धैर्य रखें, जनता ने हम पर जो भरोसा किया है उस पर हमारी सरकार निश्चित रूप से खरा उतरेगी। उन्होंने कहा कि हमने जनता से जो वादे किए हैं, उन्हें निश्चित रूप से पूरा करेंगे, लेकिन इसके लिए कुछ वक्त चाहिए।

मुख्यमंत्री राजे ने कहा कि लोगों में भ्रम फैलाया जा रहा है कि हमारी सरकार पिछली सरकार की योजनाओं को बंद करेगी राजे ने स्पष्ट रूप से कहा हम ऐसा करने वाले नहीं है, क्योंकि सरकार, सरकार होती है। जिसके लिए जनकल्याणकारी योजनाओं की क्रियान्विति करना नैतिक रूप से अनिवार्य होता है। हम पिछली सरकार की तरह नहीं है, जिसने हमारे समय की कई जन कल्याणकारी योजनाएं बंद कर दी थीं। मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे को सवाई माधोपुर जिले के मेई कला तथा फरिया गांव में ग्रामीणों ने रोजड़ों की समस्या से अवगत कराया।

मुख्यमंत्री ने ग्रामीणों से कहा कि यहां ही नहीं, पूरे प्रदेश में रोजड़े किसानों की फसल चौपट कर रहे हैं, इसलिये सरकार इस समस्या का निदान करने के लिए जल्द ही निर्णय लेगी। मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे खण्डार तहसील के फरिया गांव पहुंची तो वहां के अमरा गुर्जर ने उनसे अपने घर भोजन करने का आग्रह किया। राजे अमरा के आग्रह पर उसके कच्चे मकान में गई, जहां उन्होंने खुले चौक में चूल्हे के पास टाट की बोरी पर बैठकर दाल, दही, गुड़, धनिये की चटनी, चने के साग व मक्खन के साथ ठेठ देशी अंदाज में भरपेट बाजरे की रोटी खाई। चूल्हे पर रोटी बना रही बल्लू व रूमाली से करीब आधे घंटे तक बातचीत की और उनकी दिनचर्या के बारे में पूछा।

इसके अलावा मुख्यमंत्री ने मुई खुर्द गांव के समीप हनुमान गुर्जर के छोटे से ढाबे में खाट पर बैठकर चाय की चुस्की ली। मुख्यमंत्री ने खंडार में राजकीय देवनारायण छात्रावास का निरीक्षण किया। इस भवन की जर्जर स्थिति देखकर राजे ने नाराजगी जताई और संबंधित ठेकेदार के खिलाफ कार्रवाई करने के निर्देश दिए। सवाई माधोपुर जिले के छाण तथा बहरावण्डा खुर्द में गांव के बीच नालों से निकलकर इ हो रहे गंदे पानी को लेकर भी मुख्यमंत्री ने नाराजगी जताई। मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने सवाई माधोपुर में शिल्प ग्राम का अचानक निरीक्षण किया और वहां वर्ष पर्यन्त रोजगारोन्मुख गतिविधियां संचालित करने के निर्देश दिए।

उन्होंने कहा कि सवाई माधोपुर में आर्ट एवं क्राफ्ट के क्षेत्र में काफी सम्भावनाएं हैं, इसके विकास के लिए इस क्षेत्र में कार्य करने वाले निजी विशेषज्ञों का भी सहयोग लिया जाए। राजे ने कहा कि शिल्पग्राम को इस प्रकार विकसित किया जाए कि ये स्थानीय हस्तशिल्पियों एवं शिल्पकारों को बढ़ावा देकर उनके लिए रोजगार के अवसर पैदा करें। उन्होंने कहा कि शिल्पग्राम में वर्ष भर आर्ट एवं क्राफ्ट से जुड़ी गतिविधियां संचालित की जाएं। 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You