उप्र: मतदाताओं को रिझाने आएंगे स्टार प्रचारक

  • उप्र: मतदाताओं को रिझाने आएंगे स्टार प्रचारक
You Are HereUttar Pradesh
Tuesday, February 18, 2014-1:54 PM

लखनऊ: देश की संसद को सर्वाधिक 80 सांसद देने वाले राज्य उत्तर प्रदेश के मतदाताओं पर सभी दलों की निगाह लगी हुई हैं। ऐसे में इन मतदाताओं को रिझाने के लिए राजनीतिक दल हर संभव कोशिश में जुटे हैं। इसके लिए राजनीतिक दलों ने चुनावी रैलियों में स्टार प्रचारकों को उतारने की तैयारी की है।

इन स्टार प्रचारकों की दो श्रेणियां बनाई गई है, जिसमें पहली श्रेणी में पार्टी के नामचीन नेताओं ने खुद ही कमान संभाली है। इन बड़ी राजनीतिक हस्तियों के साथ फिल्मी सितारों को भी प्रचार के लिए मैदान में उतारने की तैयारी है। मतदाताओं को रिझाने के लिए स्टार भी ग्लैमर का तड़का लगाएंगे।

स्टार प्रचारकों में छोटे पर्दे के कलाकार भी शामिल हैं। उत्तर प्रदेश में राजनैतिक दलों ने बड़ी रैलियां कर चुनावी सरगर्मी तेज कर दी है। इसके मद्देनजर संभावित प्रत्याशियों ने भी अभी से राजनैतिक नेतृत्व पर स्टार प्रचारकों का कार्यक्रम लगाए जाने की मांग शुरू कर दी है।

स्टार प्रचारकों में राजनीतिज्ञों से लेकर फिल्मी सितारों की सर्वाधिक भीड़ भाजपा के पास है। इस कड़ी में कांग्रेस और समाजवादी पार्टी भी ज्यादा से ज्यादा सिने अभिनेताओं को आगे लाने में तेजी दिखा रही है। हालांकि बसपा में अन्य राजनीतिज्ञों तथा फिल्मी दुनिया वालों को तरजीह न दिए जाने के कारण स्टार प्रचारकों की संख्या काफी कम है।

भाजपा के राजनीतिक स्टार प्रचारकों की सूची में उत्तर प्रदेश में जिनकी मांग ज्यादा है, उसमें नरेंद्र मोदी, राजनाथ सिंह के अलावा लालकृष्ण आडवाणी, सुषमा स्वराज, अरुण जेटली, उमा भारती, शिवराज सिंह चैहान, रमन सिंह, वसुंधरा राजे, वरुण गांधी, मुख्तार अब्बास नकवी शामिल हैं।

इसके बाद भाजपा के प्रचार में बड़े पर्दे से आने वाले कलाकारों में हेमा मालिनी, शत्रुघ्न सिन्हा, स्मृति ईरानी, भोजपुरी गायक मनोज तिवारी तथा संगीतकार बप्पी लहरी के नाम प्रमुख हैं। वैसे भाजपा के साथ भारी संख्या में टी.वी. सीरियल के चर्चित कलाकार भी जुड़ रहे हैं और उन्हें भी मांग के अनुरूप कुछ स्थानों पर प्रचार कार्य में लगाया जा सकता है।

कांग्रेस में भी स्टार प्रचारकों की लंबी फेहरिस्त है। इसमें राजनीतिक हस्तियों में सर्वाधिक मांग सोनिया गांधी, राहुल गांधी के साथ दिग्विजय सिंह व शीला दीक्षित की है। इसके अतिरिक्त अलग-अलग जाति व वर्ग के लोगों को आकर्षित करने के लिए भी यहां राजनीतिक चेहरे अलग-अलग है। इसमें पिछड़े नेता के रूप में बेनी प्रसाद वर्मा, मुस्लिम नेता के रूप में सलमान खुर्शीद, दलित नेता के रूप में पी.एल. पुनिया के अलावा प्रमोद तिवारी व श्रीप्रकाश जायसवाल का भी पार्टी कुछ स्थानों पर उपयोग कर सकती हैं।

कांग्रेस के प्रचार में फिल्मी सितारों में राज बब्बर के साथ गोविन्दा, नगमा, रजा मुराद, सलमान खान तथा शाहरुख खां की मांग ज्यादा है। कांग्रेस के साथ इस बार जाटलैंड में रालोद के अजित सिंह भी साथ-साथ प्रचार करते दिखेंगे।

प्रदेश में सपा के प्रचार की कमान स्वयं पार्टी के मुखिया मुलायम सिंह यादव ने संभाल रखी है। इनके साथ मुख्यमंत्री अखिलेश यादव, रामगोपाल यादव, शिवपाल यादव, वैश्य नेता के रूप में नरेश अग्रवाल, मुस्लिम नेता के रूप में आजम खां व अहमद हसन प्रचार कार्य में जुटेंगे।

सपा चुनावी जनसभाओं में कई प्रमुख फिल्मी सितारों को भी उतारेगी। इसमें बच्चन परिवार की जया बच्चन के साथ उनके पुत्र अभिषेक बच्चन व पुत्रवधु ऐश्वर्या राय बच्चन का नाम प्रमुख रूप से सामने आ रहा है। हालांकि, सदी के नायक अमिताभ बच्चन के आने की संभावना कम है। इन नामों के साथ सलमान खान, माधुरी दीक्षित, श्रीदेवी तथा शिल्पा शेट्टी के भी सपा के चुनाव प्रचार अभियान में उतरने की चर्चा जोरों पर है।

खास बात है कि स्टार प्रचारकों के मामले में सबसे पीछे बसपा है। पार्टी में मायावती ने राजनैतिक तौर पर हमेशा ही अकेला चलो की राह अपनायी है। वह पार्टी संगठन में कोई दूसरा नेतृत्व पनपने नहीं देती। यहां तक कि मायावती की अनुमति के बगैर पार्टी का कोई बड़ा नेता बयान भी जारी नहीं कर सकता है। वैसे मायावती के अलावा जिन नेताओं को चुनाव प्रचार की कमान सौंपी जानी है, उसमें सतीश मिश्र, नसीमुद्दीन सिद्दीकी, स्वामी प्रसाद मौर्य, रामअचल राजभर आदि के नाम हैं।

 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You