केन्द्र में स्थिर सरकार ही होनी चाहिए: ममता

  • केन्द्र में स्थिर सरकार ही होनी चाहिए: ममता
You Are HereNational
Tuesday, February 18, 2014-6:18 PM

 कोलकाता: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने आज कहा कि वह लोकसभा चुनावों के बाद केन्द्र में स्थिर सरकार चाहती हैं जो लोगों के लिये काम करे और अपने वादे पूरे करे। तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी ने तीन दिवसीय दिल्ली यात्रा पर रवाना होने से पूर्व यहां नेताजी सुभाष चन्द्र बोस हवाई अड्डे पर संवाददाताओं ने बातचीत में कहा, ‘‘मैं एक सीधी सादी इंसान हूं और मैं आम लोगों में से हूं।

मुझे लगता है कि चाहे जो भी सरकार हो, लोकतंत्र बना रहना चाहिये और इसीलिये हम एक ऐसी सरकार चाहते हैं जो आम लोगों की हो, आम लोगों द्वारा हो और आम लोगों के लिये हो।’’ ममता से पूछा गया था कि क्या वह पूर्व में उनके द्वारा प्रस्तावित क्षेत्रीय पार्टियों के गैर कांग्रेस और गैर भाजपा संघीय मोर्चे का नेतृत्व करेंगी।

उन्होंने कहा, ‘‘यह सही नहीं है कि हम चुनाव से पूर्व वादे करें और बाद में उन्हें पूरे नहीं करें।’’ ममता ने ऋण की किस्तों का केन्द्र सरकार द्वारा पुनर्निधारण नहीं किये जाने की आलोचना की और कहा कि केन्द्र की संप्रग सरकार ने राज्य में तृणमूल कांग्रेस की सरकार के सत्ता में आने के बाद पिछले ढाई साल में पूर्व की वाममोर्चा सरकार द्वारा लिये गये ऋण के ब्याज के रूप में 70 हजार करोड़ रूपये वसूल चुकी है।

ममता को दिल्ली में समाजसेवी अन्ना हजारे से भेंट करनी है। उन्होंने कहा, ‘‘मेरे मन में उनके प्रति अगाध सम्मान है। जब वह दिल्ली में हैं और मुकुल राय तृणमूल कांग्रेस महासचिव से भेंट के दौरान कह चुके हैं कि उन्हें मुझसे मिलकर प्रसन्नता होगी।’’


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You