संतों, मौलानाओं में गठजोड़ से धर्मनिरपेक्ष मोर्चे आहट!

  • संतों, मौलानाओं में गठजोड़ से धर्मनिरपेक्ष मोर्चे आहट!
You Are HereNational
Wednesday, February 19, 2014-2:23 PM

लखनऊ/बरेली: देश में इसी वर्ष होने जा रहे आम चुनाव के दौरान हिन्दू पीठाधीशों और मुस्लिम मौलानाओं के रूप में एक नया गठजोड़ सामने आ सकता है। बरेली में कल्कि पीठाधीश की कोशिश यदि परवान चढ़ी तो संतों-मौलानाओं का यह मोर्चा जल्द ही अस्तित्व में आ जाएगा, जिससे विभिन्न राजनीतिक दलों की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। पीठाधीश प्रमोद ने मौलाना तौकीर रजा खां से उनके घर पर मुलाकात की। मुलाकात के बाद कल्कि पीठाधीश ने कहा कि सांप्रदायिक और व्यावसायिकरण के रूप में दो तरह का भ्रष्टाचार देश को खोखला कर रहा है।

उन्होंने कहा कि इन दोनों के मिलने से राजनीतिक भ्रष्टाचार बढ़ रहा है। ऐसे में धर्मगुरुओं ने गंगा-जमुनी तहजीब को बचाने के लिए राजनीतिक रास्ता चुना है। उसके तीन तरीके हैं। एक किसी राजनीतिक दल का समर्थन करें। दूसरा यह कि किसी दल को नहीं अलग-अलग जगह उम्मीदवारों को समर्थन दिया जाय। पीठाधीश ने कहा कि तीसरा रास्ता यही है कि पूरे मुल्क में धर्मनिरपेक्ष मोर्चा बनाया जाए। उन्होंने कहा कि इस तरह का एक मोर्चा तैयार होना चाहिए।

सपा के सवाल पर उन्होंने कहा यह पार्टी दंगों के बाद विश्वास खो चुकी है। वह कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के साथ भी नहीं जाएंगे। आम आदमी पार्टी (आप )के अरविंद केजरीवाल के साथ जाने के सवाल पर कहा उन्होंने जल्दबाजी कर दी। उन्होंने कहा कि किसी के पिछलग्गू नहीं बनेंगे और नौ अप्रैल से पहले ऐसा फैसला लिया जाएगा, जो मुल्क की तस्वीर बदल देगा। 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You