लोकसभा ने अंतरिम बजट को दी मंजूरी

  • लोकसभा ने अंतरिम बजट को दी मंजूरी
You Are HereNational
Thursday, February 20, 2014-10:10 AM

नई दिल्ली: लोकसभा ने आज 2014-15 के लिए लेखा अनुदान की अनुपूरक मांगों और विनियोग (लेखानुदान) विधेयक 2014 तथा वित्त विधेयक को बिना चर्चा के पारित कर दिया और इसके साथ ही अंतरिम बजट को मंजूरी मिल गई। वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने विभिन्न मुद्दों पर कई दलों के सदस्यों के हंगामे के बीच अनुदान की अनुरूपक मांगों, विनियोग विधेयक और वित्त विधेयक पेश किया था।  इन विधेयकों को बिना चर्चा के पारित कर दिया गया।

लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार ने हालांकि भाजपा के वरिष्ठ नेता मुरली मनोहन जोशी से इस पर चर्चा शुरू कराने का प्रयास किया, लेकिन हंगामे के कारण वह अपनी बात ज्यादा आगे नहीं बढ़ा सके। चर्चा नहीं हो पाने के चलते वित्त मंत्री की ओर से भी कोई जवाब नहीं हुआ। चिदंबरम ने सोमवार को अंतरिम बजट के साथ जुलाई तक के लिए लेखा अनुदान की मांगों को पेश किया था।

मुरली मनोहर जोशी ने कहा कि चिदंबरम ने जो लेखा अनुदान पेश किया है, वह ‘वोट फार एकाउंट’ नहीं बल्कि ‘एकाउंट फार वोट’ है और इसमें सिर्फ आंकड़ों की बाजीगरी की गई है। उन्होंने कहा कि इसमें बुनियादी चुनौतियों का जिक्र करते हुए इसे वोट पाने का जरिया बनाने का प्रयास किया गया है। वित्त मंत्री को अस्थायी उपाय करने की बजाए अर्थव्यवस्था को सुदृढ़ बनाने के लिए ठोस उपाए करना चाहिए। हंगामा जारी रहने के कारण अध्यक्ष मीरा कुमार के निर्देश पर जोशी को अपना भाषण बीच में ही समाप्त करना पड़ा। गौरतलब है कि एम्स और उस जैसी अन्य संस्थाओं के संकाय पदों में प्रोन्नति में आरक्षण के मुद्दे पर जद यू और सपा सदस्य अध्यक्ष के आसन के समीप आकर अपनी बात रख रहे थे।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You