‘राहुल गांधी की रैली के होगी अभूतपूर्व’

  • ‘राहुल गांधी की रैली के होगी अभूतपूर्व’
You Are HereUttrakhand
Wednesday, February 19, 2014-6:56 PM

देहरादून: राज्य कांग्रेस महामन्त्री विजय सारस्वत व पार्टी प्रवक्ता धीरेन्द्र प्रताप ने आज यहां एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि पार्टी ने इस रैली की काफी तैयारियां कर ली है तथा बाकी तैयारियों को अतिंम रूप दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने दिल्ली व देहरादून में हाल ही में रखे गए बजट प्रस्तावों में अनेक ‘जनहित कदम’ उठाए हैं जिससे कार्यकर्ता भारी उत्साहित हैं व उनको प्राप्त हो रही सूचनाओं से स्पष्ट है कि नेपाल की सीमा से सटे धारचूला से लेकर चीन की सीमा से सटे नीती-माना से हजारों की संख्या में लोग देहरादून पहुंच रहे हैं। दोनों नेताओं ने इस मौके पर केन्द्र सरकार द्वारा ‘वन रैंक वन पेंशन’ व पर्वतीय राज्यों के लिए 1200 करोड़ की पैकेज सहायता का पुरजोर स्वागत किया व राज्य के नए मुख्यमंत्री हरीश रावत द्वारा नौजवानों को रोजगार व आम जनता की ‘स्वास्थ्य बीमा योजना’ को सराहते हुए कहा कि भाजपा व विपक्ष पहले ही विजय बहुगुणा द्वारा उठाए जा रहे कदामों से घबराया हुआ था और अब हरीश रावत के ‘ताबातोड़’ दौरों व कांग्रेस अध्यक्ष यशपाल आर्य द्वारा संगठन व जनता के हित में उठाए जा रहे  ‘सधे हुए कदमों’ से भाजपा को लकवा मार गया है और वह अजूलफजूल बयान देने पर उतर आई है।

सारस्वत और धीरेन्द्र प्रताप ने विधानसभा में महिला सशक्तिकरण मंत्री अमृता रावत पर लगाए गए आरोपों को भाजपा की घटिया मानसिकता का परिचारक बताया व कहा कि भाजपा को इसके लिए माफी मांगनी चाहिए। उन्होंने विधानसभा में भाजपा द्वारा रखे गए ‘‘अविश्वास प्रस्ताव’’ का मजाक उड़ाते हुए कहा कि इससे कांग्रेस सरकार को अस्थिर करने की भाजपाई साजिशों की पोल खुल गई है और कांग्रेस सरकार हरीश रावत के नेतृत्व में और मजबूत होकर उभरी है। प्रताप और  सारस्वत ने विधानसभा में भाजपा की करारी हार को विपक्ष के मुहं पर तमाचा’’ बताया और अपने साथी पी0डी0एफ  के विधायकों के सहयोग पर आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा 22 फ रवरी की रैली के लिए चार कांग्रेस प्रचार रथ देहरादून के कोने-कोने में घूम रहे हैं तथा जल्द ही देहरादून के तमाम हिस्सों को कांग्रेसी झण्डों और होर्डिगों से सजाकर पाट दिया जाएगा। दोनों नेताओं ने मंत्रियों के विभाग वितरण को मुख्यमंत्री हरीश रावत का विशेषाधिकार बताया व मुख्यमंत्री के विधानसभा सत्र के बाद विभाग वितरण को बहुत ही ‘‘विवकेशील व दूरदर्शितापूर्ण कदम’’ बताया। उनका कहना था चूंकि हरीश रावत विधानसभा सत्र की पूर्व संध्या ही मुख्यमंत्री बने थे, ऐसे में दो साल से मंत्री रहे लोगों के अचानक विभाग बदलना किसी भी ट्टष्टि से उचित नहीं था, जो कांग्रेस के लिए सदन में कठिनाईयां पैदा कर सकता था।

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You