‘राजीव के हत्यारों के प्रति नरमी का न्यायालय का फैसला गंभीर’

  • ‘राजीव के हत्यारों के प्रति नरमी का न्यायालय का फैसला गंभीर’
You Are HereNational
Thursday, February 20, 2014-3:45 PM

नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी समेत विभिन्न दलों ने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के हत्यारों की मृत्युदंड की सजा आजीवन कारवास में बदलने के उच्चतम न्यायालय के फैसले को गंभीर बताते हुए कहा है कि इससे देश में गलत संदेश जाएगा।

पूर्व प्रधानमंत्री के हत्यारों की रिहाई के तमिलनाडु सरकार के फैसले पर इन दलों का कहना था कि उच्चतम न्यायालय के फैसले पर कार्रवाई करते हुए ही राज्य की जयललिता सरकार ने यह निर्णय लिया है।

भाजपा के वरिष्ठ नेता एम वेंकैया नायडू ने यहां संसद भवन परिसर मे संवाददाताओं से कहा कि उनकी पार्टी किसी भी हत्यारे के प्रति दया दिखाने के खिलाफ है। उन्होंने कहा कि उच्चतम न्यायालय के इस फैसले के खिलाफ अपील करने का फैसला केन्द्र सरकार को करना है।

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव रामकृपाल यादव ने विलंब को आधार बनाकर हत्यारों के प्रति नरमी दिखाने के न्यायालय के फैसले पर  सख्त प्रतिक्रिया करते हुए सवाल  किया कि विभिन्न न्यायालयों में कई -कई वर्षों से तमाम मामले लटके पड़े हैं तो क्या ऐसे सभी मामलों को समाप्त का दिया जाना चाहिए। उन्होंने दया याचिकाएं लंबित रहने के लिए केद्र की संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन और पूर्ववर्ती राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन सरकार को जिम्मेदार ठहराया।

जनता दल यू के शरद यादव ने राजीव गांधी के हत्यारों के प्रति नरम रूख अख्तियार करने वाले न्यायालय के फैसले को  गैर वाजिब बताते हुए कहा कि देश में न्याय की प्रक्रिया लंबी है। इसका मतलब यह नहीं है कि विलंब को आधार बनाकर देश के प्रधानमंत्री के हत्यारों को रिहा कर दिया जाए। उन्होंने कहा कि सभी हत्यारों के प्रति समान रूख अपनाया जाया चाहिए।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You