बसों में छेड़छाड़ रोकने के लिए बनी महिला पुलिसकर्मियों की स्पैशल टीम

  • बसों में छेड़छाड़ रोकने के लिए बनी महिला पुलिसकर्मियों की स्पैशल टीम
You Are HereNational
Friday, February 21, 2014-6:52 AM
नई दिल्ली (सतेन्द्र त्रिपाठी): दिल्ली की बसों में चलने वाली महिलाओं व युवतियों को मनचलों से बचाने के लिए महिला पुलिसकर्मियों की स्पैशल टीम मैदान में आ चुकी है। यह टीम चलती बसों में सादे कपड़ों में घूमकर मनचलों पर नजर रखेगी।
 
महिलाओं से पूछा जाएगा कि कोई उन्हें बस में परेशान तो नहीं कर रहा है। अगर महिला किसी की शिकायत करती है तो उसकी शिकायत को तत्काल वीडियों में रिकार्ड कर लिया जाएगा। इसके बाद आरोपी को पकड़कर बस के पीछे चल रही पुलिस जिप्सी में पकड़कर थाने पहुंचाया जाएगा। उसी शिकायत पर कार्रवाई करके मनचले को सबक सिखाया जाएगा। मनचलों से निपटने के लिए इन महिला सिपाहियों को खासतौर ट्रेनिंग दी गई है।
 
दिल्ली पुलिस की स्पैशल यूनिट फॉर वूमैन एंड चिल्ड्रन मनचलों से निपटने के लिए यह खास पहल की है। यूनिट के संयुक्त आयुक्त एसबीके सिंह ने गुरुवार को मनचलों से निपटने के इस अभियान की शुरुआत की। इस दौरान महिला सिपाहियों ने अपना कौशल भी दिखाया।
 
उन्होंने दिखाया कि अगर किसी मनचले ने कुछ गलत करने का प्रयास किया तो उसी वक्त धूल चटाने में भी उन्हें देर नहीं लगेगी। इसके लिए उन्होंने सेल्फ डिफेंस की ट्रेनिंग भी ली हुई है। उन्होंने दिखाया कि वह किस तरह किसी भी मनचले के मिनटों में सबक सिखा सकती है। यूनिट की उपायुक्त वर्षा शर्मा ने बताया कि फिलहाल इस अभियान में दिल्ली में बसों को लिया गया है। इसमें सुबह दफ्तर जाते वक्त व शाम के घर से आते वक्त बसों में महिला सिपाहियों का स्टाफ चलेगा।
 
उनके पीछे-पीछे पुलिस की एक जिप्सी भी चलेगी। अगर किसी बस में कोई मनचला पकड़ा जाता है तो उसे तुरंत जिप्सी में पकड़कर थाने ले जाया जाएगा। पीड़ित महिला की शिकायत को वीडियों में रिकार्ड कर लिया जाएगा, जिससे उसे थाने जाने की जरुरत नहीं पड़ेगी। इसके बाद आरोपी पर सख्त एक्शन लिया जाएगा। 
 

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You