27 मैट्रो स्टेशनों पर हो सकता है वर्षा जल संचय

  • 27 मैट्रो स्टेशनों पर हो सकता है वर्षा जल संचय
You Are HereNational
Friday, February 21, 2014-12:44 AM
नई दिल्ली : राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) ने आज केन्द्रीय भूमिगत जल प्राधिकार (सीजीडब्ल्यूए) और दिल्ली मैट्रो रेल कॉरपोरेशन (डीएमआरसी) को निर्देश दिया है कि वे 27 मैट्रो स्टेशनों का संयुक्त निरीक्षण करके यह देखें कि वहां वर्षा जल संंचयन प्रणाली (आरडब्ल्यूएचएस) स्थापित की जा सकती है या नहीं।
 
एनजीटी के अध्यक्ष न्यायमूर्ति स्वतंत्र कुमार की अध्यक्षता वाली पीठ ने याचिका दायर करने वाले को भी निरीक्षण दल में शामिल होने को कहा है। उसने अदालत को बताया था कि वह 27 मैट्रो स्टेशनों का निरीक्षण कर चुका है और उसने पाया कि वहां स्थान है और वहां वर्षा जल संचयन प्रणाली लगायी जा सकती है।
 
यह रिपोर्ट दिल्ली मैट्रो की रिपोर्ट के विपरीत है जिसने कहा था कि इन स्टेशनोंं पर ऐसी प्रणाली नहीं लग सकती। मामले की सुनवायी के लिए 26 मार्च की तारीख तय करते हुए पीठ ने कहा, ‘आवेदक (याचिकाकर्ता) के अनुसार उसने सभी 27 स्टेशनों का निरीक्षण किया है जहां डीएमआरसी के अनुसार वर्षा जल संंचयन प्रणाली स्थापित नहीं की जा सकती। निरीक्षण मेंं उसने पाया है कि वहांं स्थान है और उन स्टेशनों पर वर्षा जल संंचयन प्रणाली स्थापित की जा सकती है।
 
पीठ ने कहा, ‘सीजीडब्ल्यूए और डीएमआरसी को आवेदक के साथ निरीक्षण करनेे देंं और आवेदक के निरीक्षण की सच्चाई या फिर उसकी रिपोर्ट की सत्यता का पता लगाए।’ सभी मैट्रो स्टेशनों, ट्रैकों और डिपो में वर्षा जल संचयन प्रणाली स्थापित करने को लेकर विक्रांत तोंगद ने याचिका दायर की है जिस पर अधिकरण सुनवाई कर रहा था। 

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You