पुलिस की लापरवाही से बच्चे की मौत

  • पुलिस की लापरवाही से बच्चे की मौत
You Are HereNational
Friday, February 21, 2014-1:56 AM
नई दिल्ली (कुमार गजेन्द्र) : दिल्ली पुलिस अपहरण जैसी वारदातों को भी किस तरह से हल्के में लेती है, जाफराबाद इलाके में हुई एक बच्चे की हत्या, इसी का जीता-जागता उदाहरण है। हत्यारों ने इर्फान उर्फ हैप्पी (15) नाम के इस बच्चे का इससे पहले भी 2 बार अपहरण किया था। एक बार तो इस मामले में एफ.आई.आर. तक दर्ज की गई थी लेकिन पुलिस ने कुछ नहीं किया। तीसरी बार बदमाशों ने बच्चे को मौत के घाट उतार दिया। 
 
जाफराबाद थाने में दर्ज एफ.आई.आर. के मुताबिक इर्फान उर्फ हैप्पी 14 फरवरी सुबह अपने घर से दावत में गया था। वापस लौटते हुए शेरखान उर्फ शेरू ने अपने साथियों के साथ उसका अपहरण कर लिया था। बाद में उसकी लाश कल्याण सिनेमा के पास स्थित एक  फ्लैट में पड़ी मिली थी। बदमाशों ने उसका गला रेता इसके बाद उसका पेट फाड़ दिया था।
 
हैरान कर देने वाली बात यह है कि बच्चे की हत्या की सूचना भी शेरू ने खुद ही फोन कर बच्चे की मां फिरदौस को दी थी। इसकी पूरी रिकाॄडग फिरदौस के मोबाइल में है, जिसे पुलिस ने अपने कब्जे में ले लिया है लेकिन सारे सबूत होने के बाद पुलिस अभी तक इस वारदात के सभी आरोपियों को गिरफ्तार नहीं कर पाई है।  
मामले के मुताबिक मोहम्मद सुल्तान सीलमपुर के चौहान बांगर में पत्नी और 8 बच्चों के साथ रहते हैं। वह विकलांग हैं और उनके दोनों पैर खराब हैं। एक बड़ा बेटा है, जो इलाके में ही एक फैक्टरी में काम करता है, जिससे घर का गुजारा चलता है। बताया जाता है कि उनके घर के पास ही शेरखान उर्फ शेरू नाम का एक बदमाश रहता है। पीड़ित परिवार का आरोप है कि वर्ष 2011 में शेरू उनकी पत्नी फिरदौस को जबरन अपने साथ ले गया था। 
 
परिवार ने जब इसकी शिकायत पुलिस से की तो शेरू उनका दुश्मन बन गया। फिरदौस कई माह बाद किसी तरह शेरू के चंगुल से छूट कर आ गई लेकिन शेरू के भाई नजबुल हसन उर्फ जैगम ने फिरदौस की 16 साल की बेटी को घर से उठा लिया। परिवार जब इसकी शिकायत करने के लिए थाने गया तो बदमाशों ने उनके बेटे इर्फान उर्फ हैप्पी का अपहरण कर लिया। 
 
बदमाशों ने परिवार को धमकी दी कि अगर पुलिस को दी गई शिकायत वापस नहीं ली गई तो उनके बेटे की हत्या कर दी जाएगी। इसके बाद फिरदौस का परिवार डर गया। नजबुल हसन उर्फ जैगम ने इस लड़की से नाबालिग होने के बावजूद शादी कर ली। उधर जैगम का छोटा भाई शेरू भी लड़की की मां फिरदौस से शादी कर रखी थी। इस हिसाब से फिरदौस देवरानी बन गई और उसकी नाबालिग बेटी जेठानी बन गई थी। बहरहाल पुलिस दिल दहला देने वाली इस वारदात के आरोपियों को अभी तक गिरफ्तार नहीं कर पाई है।  

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You