जर्मन बेकरी ब्लास्ट में हिमायत बेग का कोई हाथ नहीं: भटकल

  • जर्मन बेकरी ब्लास्ट में हिमायत बेग का कोई हाथ नहीं: भटकल
You Are HereNational
Friday, February 21, 2014-3:32 PM

नई दिल्ली: पुणे के जर्मन बेकरी ब्लास्ट केस में एक और नया खुलासा हुआ है। इंडियन मुजाहिदिन का आतंकवादी यासिन भटकल ने बयान देते हुए कहा है कि ब्लास्ट में मुख्य भूमिका उसकी थी। हिमायत बेग का इससेे कोई लेना-देना नहीं था, इसके अलावा दो दूसरे आरोपी फय्याज कागजी और अबू जिंदाल का भी इस धमाके से कोई लेना देना नहीं है। भटकल ने अपने साथी के तौर पर दरभंगा निवासी मोहम्मद कतील सिद्दीकी का नाम लिया है। भटकल ने बताया कि उनके निशाने पर विदेशी थे, जो अक्सर बेकरी में आते रहते थे। 

बतां दें कि एनआईए ने कल पटियाला हाउस कोर्ट में यासीन भटकल समेत सभी आरोपियों के खिलाफ सप्लीमेंट्री चार्जशीट दाखिल की है। चार्जशीट के साथ यासीन भटकल का मजिस्ट्रेट के सामने दिया गया इकबालिया बयान भी लगाया गया है।

और वहीं, हिमायत बेग पर पुणे जर्मन बेकरी ब्लास्ट केस में मुकदमा पूरा हो चुका है और उसे सजा ए मौत दी जा चुकी है। एनआई सूत्रों के मुताबिक उन्हें ऐसा कोई सबूत नहीं मिला है जो यासीन भटकल के इकबालिया बयान में कही गई बातों को गलत साबित करता हो। इसलिए एक तरह से हिमायत बेग को एनआईए से क्लीन चिट मिल गई है।

गौरतलब है कि जर्मन बेकरी ब्लास्ट में 17 लोग मारे गए थे। इनमें कई विदेशी नागरिक भी शामिल थे। 13 फरवरी 2010 में हुए जर्मन बेकरी ब्लास्ट केस में दोषी ठहराए गए हिमायत बेग को फांसी की सजा मिली है।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You