मुख्यमंत्री बदलने से गुनाह खत्म नहीं हो जाएंगे: उमा भारती

  • मुख्यमंत्री बदलने से गुनाह खत्म नहीं हो जाएंगे: उमा भारती
You Are HereNational
Friday, February 21, 2014-6:35 PM

देहरादून: मुख्यमंत्री बदलने से जनता के साथ किए गए गुनाह खत्म नहीं हो जाएंगे। जितना गुनाह तत्कालीन मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा का है। उससे कम गुनाह वर्तमान मुख्यमंत्री हरीश रावत का नहीं है। हरीश रावत केन्द्र में बनी उच्चाधिकार प्राप्त समिति के सदस्य में शामिल थे जो आपदा के लिए केंद्र द्वारा बनाई गई थी। इस समिति ने अब तक विकास के लिए कुछ नहीं किया है। कांग्रेस को आखिरी दिनों में किए गए इस बदलाव का का फायदा नहीं नुकसान होगा। यह आंकलन उमा भारती का है। भाजपा की वरिष्ठ फायर ब्रांड नेता उमा भारती का कहना है कि नेता बदलने से अपराध कम नहीं हो जाते। देवभूमि की जनता सब जानती है। उचित समय पर वह उचित निर्णय लेगी। उमा भारती भाजपा प्रदेश मुख्यालय पर पत्रकारों से वार्ता कर रही थी। पत्रकार वार्ता में उनके साथ महामंत्री प्रकाशपंत, प्रदेश अध्यक्ष तीरथ सिंह रावत तथा मीडिया प्रभारी उमेश अग्रवाल व अन्य नेता उपस्थित थे। भारती ने जोर देकर कहा कि कांग्रेस ने हमेशा जन भावनाओं की उपेक्षा की है। उसका हमेशा यह प्रयास रहा है कि कुछ लोगो के हित में मतो की नीयत से जो कदम उठाए जाए वही उठाती रही है। उत्तराखंड की आपदा में अब तक किसी को भी कोई लाभ नहीं हुआ है।

उन्होने पूरे पहाड़ के दर्जनों स्थानों का नाम लेकर कहा कि जिन क्षेत्रों में उन्होने दौरा किया है वहां जनता यह मानती है कि सरकार की राहत तक नहीं पहुंची। अब भी लाखों लोगो के आंसू नही पोंछे गए है। ऐसे में किसी लाभ की उम्मीद करना कांग्रेस का भ्रम है। उन्होने कहा कि संगठन ने उत्तराखंड का चुनाव प्रभारी बनाकर उनकी मुंह मांगी मुराद पूरी की है। भारती का कहना है कि संगठन ने उन्हे उत्तराखंड की जनता का सेवा का अवसर दिया है। चाहे आपदा का प्रकरण रहा हो या गंगा अभियान का। संगठन ने उन पर भरोसा जताकर उनकी मंसा पूर्ण की है। उन्होने कहा कि आपदा में फेल रहने के बाद उत्तराखंड सरकार और केंद्र सरकार ने अब तक कोई प्रभावी कार्यवाही नहीं की है। भारती ने कहा कि उनका पूरा ध्यान गंगा को स्वच्छ और अविरल बनाए रखने पर है। इसलिए उन्होने आलाकमान को अपनी इच्छा जता दी है कि वह गंगा की सेवा करना चाहती है।

यह पूछे जाने पर कि वह हरिद्वार से चुनाव लड़ेगीं। भारती का कहना था कि फिलहाल मैं चुनाव की बजाय गंगा पर ध्यान केंद्रित करना चाहती हूं लेकिन आलाकमान का जो निर्देश होगा वह मुझे मान्य होगा। मैं पांचो सीटो को जिताने पर अपना ध्यान लगाए हूं। पांचो सीटो पर विजय प्राप्त करना हमारी प्राथमिकता है। उन्होने कहा कि बीजेपी ही नही पूरे देश के लोग मोदी को प्रधानमंत्री देखना चाहते है। अन्ना हजारे के पूछे गए एक सवाल पर भारती का कहना था कि अन्ना हजारे ने ममता बनर्जी पर जो विश्वास किया है वह विश्वास अविश्वास में बदलेगा। बनर्जी वामपंथियों से भी ज्यादा घातक है। ऐसे में उनके बारे में कुछ कहना ठीक नही है। उमा भारती के अनुसार भाजपा 272 से काफी अधिक सीटे जीतेगी।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You