Subscribe Now!

मुजफ्फरनगर दंगों में 65 लोगों की जानें गई: अखिलेश

  • मुजफ्फरनगर दंगों में 65 लोगों की जानें गई: अखिलेश
You Are HereNational
Friday, February 21, 2014-6:30 PM

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने विधान परिषद में लिखित जवाब में बताया कि मुजफ्फरनगर जिले में पिछले साल सितम्बर माह में भड़की हिंसा के दौरान 65 लोगों की जानें गई और 85 घायल हुए। उत्तर प्रदेश विधान परिषद में आज कांग्रेंस सदस्य नसीब पठान के अतारांकित सवाल के लिखित जवाब में मुख्यमंत्री ने बताया कि सितम्बर और अक्टूबर 2013 में मुजफ्फरनगर और उसके आसपास के जिलों में भड़की हिंसा में कुल 65 लोगों की मृत्यु हुई जिनमें दो अज्ञात थे। हिंसा में गंभीर रुप से 34 और सामान्य रुप से 51 लोग घायल हुए थे। राज्य सरकार ने मृतक आश्रितों को दस-दस लाख रुपए की दर से आर्थिक सहायता तथा उनके परिवार के एक सदस्य को शैक्षिक योग्यता के आधार पर नौकरी दी। इसके अलावा प्रधानमंत्री राहत कोष से प्रत्येक मृतक आश्रित को दो लाख रुपए की आर्थिक सहायता प्रदान की गई जबकि गंभीर रुप से घायल को 50 हजार रुपए और सामान्य घायल को 20 हजार रुपए की दर से आर्थिक सहायता दी गई।

लिखित जवाब के अनुसार घायल व्यक्तियों को रानी लक्ष्मीबाई पेंशन योजना के तहत प्रतिमाह पेंशन भी स्वीकृत की गई है। राज्य सरकार ने घायलों के नि:शुल्क इलाज की सुविधा भी प्रदान की गई। मुजफ्फरनगर, मेरठ, बागपत, शामली समेत विभिन्न जिलों में सितम्बर, अक्टूबर के दौरान हत्या, आगजनी, गंभीर चोट, बलात्कार एवं अन्य प्रकरणों में कुल 566 अभियोग पंजीकृत किए गए एवं घटना में संलिप्त 295 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया। पुलिस के बढ़ते दबाव के कारण 96 आरोपी अदालत में हाजिर हुए और 11 लोगों पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) के तहत कार्रवाई की गई। शेष अभियुक्तों की गिरफ्तारी के कड़े निर्देश दिए गए हैं। पंजीकृत अभियोग की निष्पक्ष एवं पारदर्शी विवेचना के लिए विशेष अनुसंधान सैल का गठन भी किया गया है। उक्त भड़के दंगों को रोकने एवं उस पर प्रभावी अंकुश लगाने के लिए 339 पिकेट, 300 पैट्रोलिंग पाॢटयां, 1223 शस्त्र निरस्तीकरण एवं 1874 शस्त जब्तीकरण की कार्यवाही की गई। धारा 151 के तहत 3007 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया। दंगे के दौरान 45 मुस्लिम समुदाय, 18 हिन्दू और दो अज्ञात समेत 65 लोगों की जानें गईं।

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You