भ्रष्टाचार निरोधक विधेयक पारित न होने पर विपक्ष जिम्मेदार: राहुल

  • भ्रष्टाचार निरोधक विधेयक पारित न होने पर विपक्ष जिम्मेदार: राहुल
You Are HereNational
Saturday, February 22, 2014-12:42 AM

नई दिल्ली: कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने आज विपक्ष पर छल करने और भ्रष्टाचार से निपटने में ‘दूसरा रास्ता देखने’ का आरोप लगाते हुए कहा कि उन्होंने भ्रष्टाचार से निपटने के लिए रूपरेखा बनाने की खातिर कदम आगे बढ़ाने के लिए अध्यादेश का रास्ता खुला रखा है। संसद सत्र आज अनिश्चित काल के लिए स्थगित हो गया और भ्रष्टाचार निरोधक छह में से पांच विधेयक पारित नहीं हो पाए जिसके मद्देनजर राहुल ने विपक्षी दलों पर तीखा हमला बोलते हुए आरोप लगाया कि उनके ‘धोखे’ की वजह से भ्रष्टाचार निरोधक महत्वपूर्ण विधेयक पारित नहीं हो सके।

राहुल ने मीडियाकर्मियों से कहा, ‘‘विपक्ष के लोगों ने कहा कि वे भ्रष्टाचार के खिलाफ हैं और इससे लडऩा चाहते हैं। लेकिन जब भ्रष्टाचार के खिलाफ विधेयक पारित करने का समय आया तो उन्होंने सहयोग नहीं दिया।’’ कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा कि उन्हें उम्मीद थी कि इन मुद्दों पर सरकार को विपक्ष का सहयोग मिलेगा। ‘‘साफ कहूं तो मैं मानता था कि वह ऐसा करेंगे।

दुर्भाग्य से देश में मुख्य मुद्दा बने भ्रष्टाचार के मामले पर विपक्ष ने दूसरा रास्ता देखा।’’ राहुल उन प्रदर्शनकारियों के समूह से मिलने के बाद संवाददाताओं से बात कर हे थे जो शिकायत निवारण विधेयक, निशक्तजन विधेयक और अनुसूचित जाति-जनजाति (अत्याचार की रोकथाम) संशोधन विधेयक पर अध्यादेश लाने की मांग कर रहे थे।

इस बारे में आंदोलन चला रहे लोकसंसद की एक विज्ञप्ति में कहा गया है कि राहुल ने इन तीन विधेयकों पर अध्यादेश लाने के लिए पूरा समर्थन देने का वादा किया है। प्रदर्शनकारियों को अपने संबोधन में राहुल ने कहा ‘‘अध्यादेश के बारे में आप जो कह रहे हैं वह मैने सुना। अपनी पार्टी के नेताओं से मेरी पहले ही बात हो चुकी है और हम कोशिश करेंगे तथा देखेंगे कि क्या हो सकता है।’’

कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा कि लोग कह रहे हैं कि इन विधेयकों को लाने के लिए अध्यादेश के रास्ते को अपनाया जाए और वह इस संबंध में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह तथा कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से बात कर चुके हैं। राहुल ने कहा, ‘‘देखते हैं कि अध्यादेश लाया जा सकता है या नहीं। लेकिन एक तरह से विपक्ष ने धोखा दिया।’’

कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा कि वह कई बार कह चुके हैं कि कथनी से ज्यादा करनी महत्वपूर्ण होती है और हकीकत यह है कि जब भ्रष्टाचार निरोधक कदमों को उठाने का वक्त आता है तो विपक्ष समर्थन नहीं करता। राहुल ने कहा, ‘‘मुझे लगता था कि विपक्ष के लोग इन विधेयकों का समर्थन करेंगे और भारत को मजबूत भ्रष्टाचार निरोधक प्रणाली मिलेगी। लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया।’’


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You