आप में शामिल होते ही फुल्का बने विलेन

  • आप में शामिल होते ही फुल्का बने विलेन
You Are HereNational
Saturday, February 22, 2014-1:12 AM
नई दिल्ली(सुनील पाण्डेय): पंजाब में अपनों से ही अपनी राजनीतिक जमीन को खोता हुए देख सत्ताधारी दल शिरोमणि अकाली दल (बादल) घबरा गया है। यही कारण है कि 29 सालों से धर्म युद्ध में सिपाही की भूमिका निभा रहे वरिष्ठ वकील एच.एस. फुल्का को आज अकाली दल ने ‘विलेन’ करार दे दिया। इसके बदले अकाली दल हाईकमान ने दिल्ली  ईकाई के माध्यम से आज फुल्का पर सीधे मोर्चा खोल दिया है।
 
दिल्ली  सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने फुल्का पर चौतरफा हमले की रणनीति बनाई है। कमेटी फुल्का से जुड़े सभी मामलों की जांच करेगा। इसके लिए आज एक तीन सदस्यीय जांच कमेटी का गठन भी आनन-फानन में कर दिया गया। कमेटी के लिए यह जांच का विषय है कि फुल्का पैनल इन मुकद्दमों में कौम को इंसाफ दिलवाने में कामयाब क्यों नहीं हो सका। दिल्ली  सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के चेयरमैन मंजीत सिंह के मुताबिक यह जांच कमेटी फुल्का से जुड़े केसों की जांच करेगा। पैनल द्वारा पैरवी किए गए मुकद्दमों में कौम को संताप का सामना क्यों करना पड़ा, इसकी भी जांच होगी। 
 
फुल्का आम आदमी पार्टी के लुधियाना से लोकसभा चुनावों के लिए घोषित उम्मीदवार हैं। उनके उतरने से सिख राजनीति एवं अकालियों को भारी नुक्सान हो सकता है। इसी के चलते चुनाव से पहले ही हमला शुरू हो गया है। फुल्का पर हमला दिल्ली  सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने हमला सीधे तौर पर बोला है, जो पिछले 29 सालों से फुल्का पर केसों के बदले लाखों रुपए खर्च कर चुकी है। कमेटी ने फुल्का पर सिखों को धोखा देने का आरोप मढ़ा है।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You